जासं, भुवनेश्वर : चक्रवात फणि ने नगर में लाखों की संख्या में पेड़ों को उखाड़ दिया है। हजारों पेड़ झुक गए हैं। ऐसे में पहली बार नई तकनीकि के जरिये वन विभाग की तरफ से झुक गए पेड़ों को सीधा किया जा रहा है। इसके तहत राजधानी भुवनेश्वर में अब तक 7 हजार से अधिक पेड़ों को खड़ा किया जा चुका है। लगभग 30 हजार पेड़ों को खड़ा करने का वन विभाग ने लक्ष्य रखा है। जंगल एवं पर्यावरण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव सुरेश चंद्र महापात्र के अनुसार, सोमवार को ब्रह्मगिरी-खजुरिया मार्ग के किनारे झुके हुए पेड़ों को उठाने का काम वन कर्मचारियों ने किया है। वन कर्मचारियों के इस कार्य में स्वयंसेवी संगठन के सदस्य भी सहयोग कर रहे हैं। चक्रवात के बाद गिर पड़े पेड़ों को काटकर साफ कर दिया गया है मगर सड़कों के किनारे झुके पेड़ों को पुन: खड़ा किया जा रहा है। महापात्र ने बताया कि पहले चरण में सड़कों के किनारे लटके हुए पेड़ों को खड़ा किया जा रहा है। सूचना के मुताबिक 22 लाख पेड़ नष्ट हुए हैं। लेट गए पेड़ों में धीरे-धीरे पत्ते आने लगे हैं, ऐसे में उनके बचने की संभावना ज्यादा है। यदि इन पेड़ों को काट दिया जाएगा तो इस तरह के पेड़ तैयार करने में 25 से 40 साल का समय लग जाएगा। हमने 30 हजार पेड़ों को खड़ा करने का लक्ष्य रखा है। बड़े-बड़े पेड़ों को जेसीबी के जरिए खड़ा किया जा रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप