भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। राजधानी भुवनेश्वर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2150 तक पहुंच गई है। भुवनेश्वर जैसे जनसंख्या घनत्व वाले शहर में इतनी मात्रा में कोरोना संक्रमित मरीज की पहचान होना चिंता का विषय है। क्वारंटाइन सेंटर या होम क्वारंटाइन के अलावा स्थानीय संक्रमण के मामले बढ़ना और चिंताजनक है। राजधानी की बस्तियों में पिछले कुछ दिनों से कोरोना की बढ़ती रफ्तार ने राजधानी के लोगों में भय व आतंक का माहौल बना दिया है। होम क्वारंटाइन में रहने वाले व्यक्ति विशेष बार-बार फोन कर डाक्टरी सहायता मांग रहे हैं, मगर उन्हें यह सुविधा नहीं मिल रही है, ऐसी हर दिन खबरें आ रही हैं।

कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने वाले लोगों का कंट्राक्ट ट्रेसिंग व्यवस्था का राजधानी में सही ढंग से संचालन नहीं हो पाने से सामूहिक संक्रमण होने की आशंका बढ़ गई है। कोरोना के अलावा अन्य सामान्य एवं गम्भीर मरीज राजधानी में इलाज पाने से वंचित हो रहे हैं। ऐसी स्थिति में राजधानी भुवनेश्वर में गम्भीर परिस्थिति से मुकाबला के लिए केन्द्र सरकार विशेष रूप से गृहमंत्री अमित शाह से सहयोग लेने के लिए अनुरोध कर मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर भुवनेश्वर जिला भाजपा के अध्यक्ष बाबू सिंह ने अनुरोध किया है। 

 

बाबू सिंह ने कहा है कि नई दिल्ली में स्थिति संगीन होने के समय केन्द्र गृहमंत्री ने कोरोना संचालन एवं नियंत्रण के लिए नया रास्ता दिखाया है। विभिन्न सामाजिक एवं राजनीतिक संगठन को विश्वास में लेकर कोरोना संचालन को जनभागीदारी के माध्यम से नए स्तर पर पहुंचा दिया। पब्लिक हेल्थ अधिकारी को प्रशासनिक क्षमता हो या फिर कंट्राक्ट ट्रेसिंग एवं डोर टू डोर सर्वे में एनजीओ, सामाजिक संगठन को शामिल किया है। उसी तरह से कोरोना के लिए बेड की संख्या बढ़ाने, वेंटिलेटर, एम्बुलेंस की संख्या में हुए इजाफा से दिल्ली के लोगों को राहत मिली है। 

राजधानी में स्थिति खराब होती जा रही है ऐसे में राज्य प्रशासन को सतर्क करने एवं केन्द्र सरकार तथा गृह मंत्री अमित शाह से विशेष सहयोग लेने के लिए मुख्यमंत्री को सिंह ने अनुरोध किया है। इस अवसर पर राज्य भाजपा प्रवक्ता दिलीप महांती, जगन्नाथ प्रधान एवं हरेकृष्ण खुंटिया प्रमुख उपस्थित थे।

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस