जागरण संवाददाता, भुवनेश्वर : ओडिशा विधानसभा का मानसून अधिवेशन 29 सितंबर से शुरू हो रहा है। इस अधिवेशन में सरकार को सदन में घेरने के लिए प्रमुख विरोधी पार्टी भाजपा के नेताओं ने मुद्दे तय कर लिए हैं। वर्चुअल प्लेटफार्म के जरिए भाजपा विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें विभिन्न प्रसंग पर चर्चा हुई है। सदन में बिजली दर वृद्धि, कोविड संचालन में अनियमितता एवं विभिन्न विभाग में व्यापक भ्रष्टाचार को भाजपा मुख्य मुद्दा बनाकर सरकार को घेरने की योजना तैयार की है। हाल ही में प्रदेश में आई बाढ़ मानवकृत होने का आरोप भाजपा की तरफ से लगाए जाने के साथ ही इस मुद्दे को विधानसभा में भी उठाने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा बगला धर्मशाला, प्रवासी ओड़िया श्रमिक समस्या, नया विश्वविद्यालय कानून, खाद घोटाला, प्रधानमंत्री आवास योजना में भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों को भाजपा सदन में उठाएगी।

इसके अलावा आयुष्मान भारत योजना में ओडिशा को शामिल करने के लिए राज्य सरकार क्यों इच्छा नहीं दिखा रही है एवं प्रधानमंत्री किसान योजना में लाभुकों की संख्या में क्यों कमी आई है, इस पर भी भाजपा सदन में जवाब मांगने की बात विधायक दल के मुख्य सचेतक मोहन माझी ने मीडिया से कही है।

भाजपा विधायक दल की यह बैठक पार्टी अध्यक्ष समीर महांती की अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में विधायक दल के नेता प्रदीप्त नायक, दो केंद्रीय्र मंत्री धर्मेद्र प्रधान एवं प्रताप षाड़ंगी, सांसद जुएल ओराम, सुरेश पुजारी, वरिष्ठ नेता केवी सिंहदेव, विरोधी दल नेता विष्णु सेठी के साथ विधायक, संगठन महासचिव मानस महांती, पृथ्वीराज हरिचंदन, गोलक महापात्र, रवि नायक प्रमुख शामिल हुए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस