भुवनेश्वर, शेषनाथ राय। देश के चारों धामों में से एक जगन्नाथ धाम पुरी शहर एवं ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के कार्यों की चर्चा पूरे देश में हो रही है। पुरी शहर में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा शुरू की ड्रिंक फ्राम टाप योजना को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा जा रहा है। हो भी क्यों न क्योंकि देश में अभी तक कोई भी ऐसा शहर नहीं है, जहां पर इस तरह की सुविधा उपलब्ध की गई हो। इस योजना के चलते पुरी शहर एवं आस-पास के ढाई लाख लोगों को 24 घंटे विशुद्ध पेयजल मिलेगा और सीधे टैप से पानी लेकर लोग पी सकेंगे तथा रसोई कर सकेंगे। शहर के लोगों को अब पानी का विशोधन नहीं करना होगा और ना ही उन्हें अपने घरों में आरओ लगवाना पड़ेगा।

न्यूयार्क, सिंगापुर एवं लंदन जैसे शहरों से तुलना

देश में बड़े-बड़े मेट्रो शहर हैं, जहां के नागरिक को अभी तक इस तरह की सुविधा नहीं मिल पायी है। ऐसे में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के इस प्रयास की राष्ट्रीय स्तर पर मीडिया से लेकर व्यक्ति विशेष सभी प्रशंसा कर रहे हैं। लोग लिख रहे हैं कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने आज ओडिशा के पुरी शहर को न्यूयार्क, सिंगापुर एवं लंदन जैसे शहरों की तुलना में खड़ा कर दिया है। पूर्व प्रशासनिक अधिकारी अनिल स्वरूप ने ट्वीट कर लिखा है कि यह व्यक्ति अपने कार्यों से विस्मित करना जारी रखा हुआ है। सदैव मौन रहते हैं मगर प्रभावी तरीके से अपने प्रयास को सफल बनाते हैं, मेरी शुभकामना है।

RO की जरूरत नहीं, नल खोलिये-जल पीजिये

अन्य राज्यों को उनसे सीखने के लिए बहुत कुछ है। विकन लिमिटेड एवं विकन बायोलाजिक लिमिटेड के प्रतिष्ठाता किरन मजूमदार ने नवीन पटनायक की प्रशंसा करते हुए ट्वीट कर लिखा है कि यह प्राथमिक एवं जनस्वास्थ्य की सुरक्षा के हिसाब से बहुत बड़ा कदम है। दीपक शर्मा ने ट्वीट कर लिखा है कि यह आदमी अखबारों न तस्वीर छपवाता है, न अपने बैनर टंगवाता है पर बीते 21 साल से एक बेहद पिछड़े राज्य को नई बुलंदियों पर ले जा रहा है। आज इसने एक और कमाल कर दिया। ओडिशा का पुरी, देश का पहला शहर बना जहां घर में अब आरओ की जरूरत नहीं, बस नल खोलिये, जल पीजिये।

कांग्रेस नेता अल्का लांबा ने केजरीवाल को घेरा 

कांग्रेस नेता अल्का लांबा ने इसे लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को घेरते हुए दीपक शर्मा के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री को कुछ सीखना चाहिए। जो बार-बार दिल्ली को बीच में ही छोड़कर दूसरे राज्यों में अपने राजनीतिक प्रचार प्रसार में निकल पड़ते हैं।

Edited By: Babita Kashyap