कीव। यूक्रेन ने सोमवार को क्रीमिया से अपनी सेनाओं की वापसी का आदेश दिया है। यूक्रेन, क्रीमिया प्रायद्वीप में मौजूद अपने लगभग सभी युद्धपोतों को खो चुका है। हालांकि एक दिन पहले ही उसने अपने सबसे बड़े जंगी जहाज कॉन्स्टेंटिन ओल्शांस्कीय को अंत तक मुकाबला करने का आदेश दिया था। इस बीच क्रीमिया में यूक्रेन के समुद्री अड्डों पर पर रूस के कब्जे की खबरें आ रही हैं।

यूक्रेन के कार्यवाहक राष्ट्रपति ओलेक्जेंडर तुर्चिनोव ने शीर्ष सांसदों से कहा कि स्वायत्तशासी क्रीमिया में तैनात सेना को वहां से हटाने का फैसला लिया गया है। यह निर्णय राष्ट्रीय सुरक्षा और सुरक्षा परिषद ने रक्षा मंत्रालय के निर्देशों के तहत लिया है। इससे पहले यूक्रेन के रक्षा मंत्री इगोर तेनियुज ने कहा कि क्रीमिया में मौजूद यूक्रेनी नौसेना जहाजों के कमांडरों से कहा गया था कि वो हथियारों का इस्तेमाल करें लेकिन उन्होंने रक्तपात से बचने के लिए इसका प्रयोग नहीं किया। डोनूजलव की खाड़ी में यूक्रेन के अंतिम जहाजों कॉन्स्टेंटिन ओल्शांस्कीय और चर्कासी ने रूसी सैनिकों के सामने समर्पण से इन्कार किया है। हालांकि रूसी बलों ने यूक्रेन के दो जहाजों को तबाह कर दिया है।

इधर, रायटर ने यूक्रेनी सैनिकों के हवाले से बताया कि क्रीमिया के बंदरगाह शहर फीओडोसिया में स्थित यूक्रेन के समुद्री ठिकाने पर सोमवार तड़के रूसी सैनिकों ने कब्जा कर लिया। ठिकाने के प्रमुख ने बताया कि रूसी सैनिकों ने ग्रेनेड और स्वचालित हथियारों से हमला किया। उन्होंने बेस से यूक्रेन के झंडे हटा दिए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप