इस्लामाबाद। पाकिस्तान सेना के प्रमुख का मानना है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) के पद पर तैनात सरताज अजीज का ध्यान एक जगह पर केंद्रित नहीं है। यही वजह है कि उन्होंने इस पद के लिए अब सेना से हाल ही में रिटायर हुए लेफ्टिनेंट जनरल नसीर खान जंजुआ का नाम तय किया है। हालांकि अजीज इसके बाद भी विदेश विभाग से जुड़े काम देखते रहेंगे। इस नए फैसले को कई मायनों में अहम माना जा रहा है। माना यह भी जा रहा है कि इसके जरिए सरकार पर सेना अपनी पकड़ को और अधिक मजबूत करना चाहती है। जंजुआ जल्द ही पाकिस्तान के सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज की जगह ले लेंगे। इसके अलावा वह पाकिस्तान प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की आगामी अमेरिका यात्रा पर उनके साथ जाएंगे।

मीडिया में आई खबर के मुताबिक आर्मी चीफ काफी समय से जंजुआ का इस पद पर तैनात करने में लगे हुए थे।वह कई अहम पदों पर रह चुके हैं। मौजूदा एनएसए को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का काफी करीबी माना जाता है। इस बाबत सेना ने मौजूदा सेना प्रमुख और पीएम शरीफ के बीच किसी भी तरह के मनमुटाव की बात से इंकार किया है। सूत्रों के मुताबिक सेना का कहना है कि एनएसए की नियुक्ति सैन्य चीफ और पीएम दोनों ही मिलकर करते हैं। लिहाजा इसमें किसी भी तरह के मतभेद का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है।

पाक का आरोप अपनी शर्तों पर बात करना चाहते हैं मोदी

गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पाकिस्तान सेना के बीच पहले भी दूरियां रही हैं। वर्ष 1999 में तत्कालीन सैन्य प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ ने शरीफ का तख्ता पलट कर सत्ता अपने हाथों में ले ली थी। इसके बाद शरीफ को देश से बाहर तक जाना पड़ा था। लेकिन वर्ष 2013 में हुए चुनाव में उन्होंने जीत दर्ज की और वह एक बार फिर सत्ता पर काबिज हुए।

पढ़ें: सरताज अजीज की धमकी- दाऊद-सईद के लिए हुआ कमांडो ऑपरेशन तो...

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस