इस्लामाबाद (पीटीआई/आईएएनएस)। बांग्लादेश के बाद अब अफगानिस्तान भी पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय कमांडो द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के समर्थन में आ खड़ा हुआ है। भारत में मौजूद अफगानिस्तान की राजदूत साइदा अब्दाली ने पाकिस्तान से वहां मौजूदा आतंकी ठिकानों को नष्ट करने की भी अपील की है। उसका कहना है कि भारत ने अपनी रक्षा केे लिए इस ऑपरेशन को अंजाम दिया है। वहीं इस सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अब पाकिस्तान गुहार लगाने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के दरवाजे जा पहुंचा है।

उन्होंने पीओके में सर्जिकल स्ट्राक के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर सराहना की। अब्दाली का कहना था कि भारतीय पीएम की बोल्डनेस ने यह साबित कर दिया है कि वह आतंकवाद को खत्म करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्होंने इस संबंध में भारत का समर्थन करते हुए कहा कि अपने देश की सीमाओं की रक्षा करना भारत का अधिकार है, यदि इसको कोई नुकसान पहुंचाने की कोशिश या मंशा रखता है तो उसको सबक सिखाने का भी अधिकार भारत को है।

उन्होंने बलूचिस्तान के लोगों से भी सहानुभूति व्यक्त करते हुए उम्मीद जताई कि बलूचिस्तान जल्द ही पाक की दहशत से मुक्त होगा और वहां शांति स्थापित होगी। सार्क सम्मेलन के रद होने के विषय पर उन्होंने कहा कि यह समय इसके लिए सही नहीं है। उन्होंने यह भी पाकिस्तान पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक में मारे गए आतंकियों से पाकिस्तान मुंह नहीं फेर सकता है।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान और भारत के बीच मजबूत होते संबंध पाकिस्तान के लिए परेशानी का सबब बन रहे हैं। अफगानिस्तान को वित्तीय सहायता मुहैया कराने पर भी पाकिस्तान ने नाराजगी जाहिर की थी। इसके अलावा पाकिस्तान बलूचिस्तान के मुद्दे पर भी लगातार भारत पर आरोप लगाता रहा है।

पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद मदद के लिए UNSC पहुंचा पाकिस्तान

अमेरिका को पहले से थी पीओके में 'सर्जिकल स्ट्राइक' की जानकारी

सर्जिकल स्ट्राइक से डरे आतंकियों के आका बिल में छिपे, पाक ने भी दी चुप रहने की हिदायत

पंजाब समेत जम्मू कश्मीर में सीमा से सटे गांव के लोगों की ऐसे कटी रात

सर्जिकल स्ट्राइक पर भारतीय उच्चायुक्त ने भी पाक को दिया करारा जवाब

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप