लंदन। ब्रिटेन के बर्मिंघम यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने दुनिया की सबसे पुरानी कुरानों में से एक की पांडुलिपि के हिस्से की खोज की है। यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में मिले कुरान के इस हिस्से को करीब 1370 साल पुराना और पैगंबर मोहम्मद के समय के नजदीक का बताया जा रहा है। बताया जाता है कि इसे लिखने वाला संभवत: मोहम्मद साहब को जानने वाला था।

चर्म पत्र पर लिखे इस हिस्से के रेडियोकार्बन विश्लेषण से इसके 568 से 645 ईस्वी के बीच के होने का पता चला है। पैगंबर मोहम्मद का काल 570 से 632 बीच माना जाता है। दो चर्म पत्रों पर लिखी कुरान की इस पांडुलिपि में 18 से 20 सुरास (अध्यायों) के हिस्से शामिल हैं। यह पांडुलिपि शुरुआती अरबी लिपि जिसे हिजाजी के नाम से जाना जाता है, में स्याही से लिखी गई है। कुरान की पांडुलिपि का यह हिस्सा कैडबरी रिसर्च लाइब्रेरी में रखा है। यह मध्य पूर्व की हस्तलिपियों के संग्रह में शामिल है। कई वर्षों से ऐसी ही कुरानों के पत्रों के साथ बांधकर इसे रख दिया गया था। लाइब्रेरी की विशेष संग्रह की निदेशक सुसान वोरल ने बताया कि रेडियोकार्बन डेटिंग से हमें इसके सबसे पुरानी कुरानों के हिस्सा होने का पता चला। यूनिवर्सिटी के प्रोफेसरों डेविड थॉमस और नादिर दिनशॉ ने बताया कि उस जमाने में ईश्वरीय संदेश किताब के रूप में संकलित नहीं किए जाते थे। लोग उसे अपनी याददाश्त में संभालकर रखते थे और उसके कुछ हिस्से चर्म पत्र, पत्थर, ताम्र पत्र और ऊंट के कंधे पर लिखे जाते थे।

Posted By: Rajesh Niranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस