मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जिनेवा (एएफपी)। सीरिया में मानवाधिकारों के उल्लंघन की जांच के लिए बनाए गए संयुक्त राष्ट्र संघ के एक जांच आयोग का कहना है कि सीरिया के राष्ट्रपति बसर-अल असद के खिलाफ उनके पास पर्याप्त सबूत हैं, लेकिन उन्हें लगता नहीं है कि कोई भी अंतरराष्ट्रीय अदालत या संस्था कोई कदम उठाएगी।

आयोग की सदस्य कार्ला डी पोंटे स्विजरलैंड में दिए एक साक्षात्कार में कहा कि तीन सदस्यीय आयोग ने सीरिया के हालात का बारीकी से निरीक्षण किया। इसमें यह पाया गया है कि वहां मानवाधिकारों का उल्लंघन किया गया।

उनका कहना है कि जांच आयोग की सदस्यता से उन्होंने यह सोचकर इस्तीफा दिया था कि यह कदम सुरक्षा परिषद की आंखें खोलने वाला रहा, लेकिन इसका कोई असर नहीं पड़ा। हालात जस के तस हैं। असद ने वहां पर युद्ध के दौरान रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया। लड़ाई में अभी तक तीन लाख 20 हजार लोग मारे जा चुके हैं। कार्ला का सेवाकाल 18 सितंबर से खत्म हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: रूस ने कहा, सीरिया में अमेरिकी कार्रवाई उकसाने वाली

यह भी पढ़ें: खतरे में सीरियाई प्रथम महिला की ब्रिटिश नागरिकता

 

Posted By: Kishor Joshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप