बीजिंग। चीन ने नई तकनीक वाले रॉकेट से 20 माइक्रो सेटेलाइट्स सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में स्थापित किए हैं। इस रॉकेट में परंपरागत ईंधन के बजाय तरल ऑक्सीजन और केरोसिन के मिश्रण से तैयार ईधन का इस्तेमाल किया गया है।

चीन के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का मानना है कि ईधन में बदलाव कर सेटेलाइट प्रक्षेपण के वैश्विक बाजार में पैठ बनाई जा सकती है। तरल ऑक्सीजन और केरोसिन से तैयार ईधन अपेक्षाकृत सस्ता और पर्यावरण को कम नुकसान पहुंचाने वाला है। 29.3 मीटर ऊंचे लांग मार्च-6 को तैयुआन सेटेलाइट प्रक्षेपण केंद्र से रविवार को प्रक्षेपित किया गया। चाइना एयरोस्पेस साइंस एंड टेक्नोलोजी कॉर्पोरेशन के अधिकारी गाओ शिनहुई ने बताया कि इस तरह के ईधन के प्रयोग से खर्च में भारी कटौती की जा सकेगी।

रॉकेट डिजायनिंग के प्रमुख झांग वेइडांग ने बताया कि नए मॉडल से चीन की प्रक्षेपण प्रणाली में जबरदस्त बदलाव आएगा। गौरतलब है कि चीन स्वदेशी नेविगेशन सिस्टम 'बायडू' भी विकसित कर रहा है। इसके लिए अब तक दर्जन भर से ज्यादा सेटेलाइट छोड़े जा चुके हैं।

पढ़ेंः संचार उपग्रह जीसेट- 6 को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में भेजा

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस