मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। मुजफ्फरपुर जंक्शन को विश्व स्तरीय बनाने के लिए आरकेएस एजेंसी के इंजीनियर ने सर्वे प्रारंभ कर दिया है। फिलहाल साधारण टिकट काउंटर सहित अन्य कार्यालयों को जहां शिफ्ट करना है उन जगहों के लिए अस्थाई कार्यालय तैयार किया जाएगा। इसके लिए हास्पिटल, समाडि डिपो और बटलर के तरफ के बाइक स्टैंड की जगह काम शुरू होगा। 15 अगस्त के एक दिन पहले तक एजेंसी के इंजीनियरों द्वारा सभी स्पाट को चिह्नित किया था। मंगलवार को एजेंसी के इंजीनियर उक्त तीनों जगहों के सर्वे का काम पूरा कर लिया है।

बुधवार से उन जगहों की मापी कराकर कार्य का श्रीगणेश करेगा। दक्षिण दिशा स्थित पार्किंग, प्राथमिक अस्पताल व कोचिंग डिपो के पास निर्माण कार्य शुरू करने के पहले झाड़-झंखाड़ की सफाई कराई। पहले फेज में साधारण टिकट काउंटर के साथ पार्सल और आरक्षण काउंटर कार्यालयों के तोडऩे का प्लान है। कंपनी द्वारा तीन जगहों के अलावा बटलर की तरफ चार स्पाट सहित सात जगहों पर निर्माण कार्य के लिए जगह चिह्नित किया है। इसकी जानकारी से रेल भूमि विकास प्राधिकार (आरएलडीए) व सोनपुर रेल मंडल के अधिकारियों को अवगत करा दिया है। संपर्क किया है। लेकिन कंपनी के कर्मियों ने अभी तक बेस कैंप नहीं बनाया है। साइट पर न कुछ सामग्री गिराया है। इससे कार्य करने में देरी भी हो सकती है।बता दें कि मुजफ्फरपुर जंक्शन को विश्वस्तरीय बनाने के लिए साढ़े चार सौ करोड़ रुपये की मंजूरी मिली हुई है। निर्माण कार्य पर करीब 400 करोड़ रुपये खर्च होंगे।  

मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर अचानक रद, यात्री हलकान

मुजफ्फरपुर। 05259 मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज मेमू पैसेंजर को मंगलवार को अचानक रद कर दिया गया। बिना किसी सूचना के उक्त पैसेंजर ट्रेन को रद करने से यात्री हलकान हो गए। पहले पूछताछ काउंटर से कंफर्म हुए उसके बाद कई यात्री स्टेशन मास्टर कार्यालय के समीप पहुंच कर हंगामा करने लगे। बाद में यात्रियों को समझा-बुझाकर हटाया गया। इधर, पूछताछ के कर्मी जवाब देते परेशान रहे।

बता दें कि यह ट्रेन दोपहर साढ़े तीन बजे मुजफ्फरपुर से खुलने के बाद सभी छोटे-बड़े स्टेशनों पर रुकते हुए नरकटियगंज जाती है। चंपारण की तरफ से मुजफ्फरपुर शहर में काफी संख्या में यात्री आते हैं और दोपहर तक खरीदारी कर उक्त ट्रेन से निकलते हैं। चंपारण की ओर लौटने वाले रेल यात्री जब दोपहर में स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन रद की सूचना पर मायूस हो गए। कुछ लोग बस पकड़ गए तो कुछ यात्रियों को एक्सप्रेस ट्रेन से अधिक पैसे लगाकर जाना पड़ा। रेलवे के इस रवैये से यात्रियों में भारी आक्रोश देखा गया।

Edited By: Ajit Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट