जम्मू, जागरण संवादाता। नये साल की शुरुआत नये जम्मू कश्मीर से करने को लेकर देशभर के लोगों में खासा उत्साह नजर आया। विशेषकर जम्मू का पर्यटक स्थल पर्यटकों से पूरी तरह पैक रहा। उधर, कश्मीर के गुलमर्ग में पंद्रह दिन पहले ही सैलानियों का पहुंचना शुरू हो चुका था। यहां भी बर्फ से ढकी चोटियों के बीच सैलानियों ने नये साल का स्वागत किया।

वहीं, माता वैष्णो देवी के चरणों से नये साल की शुरुआत करने वाले श्रद्धालुओं की भी भारी भीड़ उमड़ी। रात दस बजे पंजीकरण केंद्र बंद होने तक 45033 श्रद्धालु अपना पंजीकरण करवाकर यात्रा शुरू कर चुके थे। आलम यह था कि कटड़ा में दर्शनी ड्योढ़ी और भवन पर दिनभर एक से डेढ़ किलोमीटर लंबी कतारें लगी रहीं। पिछले वर्ष 31 दिसंबर को 43,123 श्रद्धालुओं माता वैष्णो देवी के दर्शन किए थे।

गुलमर्ग : पर्यटन विभाग ने 31 दिसंबर को गुलमर्ग में विशेष आयोजन किए थे। म्यूजिकल नाइट, स्कीइंग, बाइक आदि कई कार्यक्रम सुबह से रात तक चलते रहे। बाइक और स्कीइंग के लिए अन्य राज्यों से प्रशिक्षित लोग भी यहां पहुंचे हैं। रात को पहली बार गुलमर्ग को रंग-बिरंगी जगनमालाओं से सजाया गया था। यहां देर रात तक कार्यक्रम चलते रहे। गुलमर्ग में 70 से अधिक छोटे बड़े होटल सैलानियों से लगभग भरे रहे। इधर, श्रीनगर में भी डल झील के किनारे देर शाम सैलानी एक-दूसरे को हैप्पी न्यू ईयर कहते नजर आए।

पत्नीटॉप :

जम्मू से करीब 120 किलोमीटर दूर प्रसिद्ध पर्यटनस्थल पत्‍‌नीटॉप में भी नए साल का जश्न मनाने के लिए सैलानियों की अच्छी खासी भीड़ रही। पत्नीटॉप के मैदान में तीन से चार फीट और साथ लगते नत्थाटॉप में छह से सात फीट बर्फ जमा है। 31 दिसंबर की शाम को यादगार बनाने के लिए होटल प्रबंधकों ने अपने स्तर पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए थे। यहां आए पर्यटक काफी खुश नजर आए और देर रात तक थिरकते रहे।

सैलानियों में दिखा जोश व उत्साह :

नये साल की शुरुआत जम्मू कश्मीर से करने के लिए हालांकि हर साल सैलानी आते हैं, लेकिन इस बार केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद पर्यटकों में अलग ही जोश व उत्साह नजर आया। गुलमर्ग में नोएडा, गुजरात, मुंबई, बंगाल से भी काफी संख्या में पर्यटक पहुंचे थे। वहीं पत्‍‌नीटॉप में आए पंजाब के पवन, राघव व ज्योति ने कहा कि जम्मू कश्मीर में ऐसे ही अमन बना रहे तो यहां पूरा साल सैलानी आते रहेंगे। 

Edited By: Preeti jha