जागरण संवाददाता, चन्दौसी: बढ़ते प्रदूषण को रोकने के साथ पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी है। इस बार तो कोरोना काल में पर्यावरण का महत्व सभी अच्छे से समझ गए हैं। घटते वन क्षेत्र को बचाने के लिए सभी को सचेत होना ही होगा। इस बार जिले में 23 लाख 67 हजार पौधे लगाए जाने का लक्ष्य मिला है। इसके लिए जिले भर की 12 पौधशालाओं में पौध तैयार करने का काम युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। हरियाली व पर्यावरण स्वच्छ बनाए रखने के लिए शासन की ओर से यह पहल की गई है। उत्तर प्रदेश में मानक से कम वन क्षेत्र को 9 फीसद से बढ़ाकर मानक के अनुसार करने के लिए मुख्यमंत्री की ओर से प्रदेश में वर्ष 2020 में 25 करोड़, 2021 में 30 करोड़ तथा 2022 में 35 करोड़ पौधे वर्षाकाल में लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। वही सम्भल जिले को भी इस बार 23 लाख 67 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। इसमें वन विभाग को चार लाख 90 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य सरकार की तरफ से दिया गया है। बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए वन विभाग की ओर से व्यापक स्तर पर पौध तैयार की जा रही है। जिले भर की 12 पौधशालाओं है। इन पौधशालाओं में 20 लाख पौधे पहले से ही तैयार हो रहे हैं। अन्य पौधे तैयार करने के लिए वन विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। वन विभाग के रेंजर नजाकत हुसैन ने बताया कि पौधशालाओं में पौध तैयार करने का कार्य किया जा रहा है। ताकि आगामी वर्षाकाल में जिले में शासन की मंशा के मुताबिक बड़े पैमाने पर पौधरोपण का कार्य करके जिले के प्रत्येक गांव व शहर में हरियाली बढ़ाई जा सके और पर्यावरण को स्वच्छ व निर्मल बनाया जा सके। इनसेट-

वन विभाग ने लक्ष्य कम करने के लिए शासन को लिखा पत्र

चन्दौसी: वन विभाग को इस बार चार लाख 90 हजार पौधे लगाने का लक्ष्य मिला है। लक्ष्य अधिक होने के चलते इस बार वन विभाग के अधिकारियों ने शासन को पत्र लिखकर लक्ष्य कम करने की बात कही है। वन विभाग का कहना है कि जिले में पौधे लगाने के लिए इतना स्थान ही नहीं है। इसलिए पत्र लिखकर लक्ष्य कम करने की बात कही गई है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस