जागरण संवाददाता कानपुर : कोतवाली और थाने में थाना प्रभारियों की तैनाती को लेकर एक बार फिर पुलिस महानिदेशक ने सख्त रुख अख्तियार किया है। उन्होंने आदेश जारी किया है कि इंस्पेक्टर के थानों में किसी भी कीमत पर दारोगा की तैनाती ना हो।

डीजीपी द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि प्रदेश के दो तिहाई थाने जो निरीक्षक स्तर के अधिकारियों के लिए चिह्नित हैं, उनमें सिर्फ निरीक्षक स्तर के ही योग्य अधिकारियों की तैनाती की जाए। उपनिरीक्षक स्तर के किसी अधिकारी को इन थानों का प्रभारी न बनाया जाए। हालांकि ऐसे थाने जहां उप निरीक्षकों को थाना प्रभारी बनाए जाने के लिए चिह्नित किया गया है, वहां इंस्पेक्टर रैंक के प्रभारी निरीक्षक की तैनाती हो सकती है। उप निरीक्षकों को थाना प्रभारी के रूप में तैनात करते समय उनकी योग्यता और सर्विस रिकॉर्ड को भी अच्छे तरीके से देखा जाए। दागी रिकॉर्ड वाले उप निरीक्षकों को थाना प्रभारी ने बनाया जाए। यदि किसी थाने पर एक से अधिक निरीक्षकों की तैनाती की जाती है तो यह ध्यान रखा जाएगा कि वरिष्ठतम अधिकारी को ही प्रभारी निरीक्षक बनाया जाए। इसके अलावा ऐसा थाना जहां उप निरीक्षक स्तर का थाना प्रभारी हो वहां पर उसके अधीन किसी इंस्पेक्टर की तैनाती न की जाए।

कानपुर में दिखेगा बड़ा बदलाव

कानपुर में शहर में लगभग सभी थाने इंस्पेक्टर स्तर के हैं, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के दस थाने सब इंस्पेक्टर रैंक के हैं। इसकी अपेक्षा इन थानों में सब इंस्पेक्टर रैंक के थानेदारों की संख्या अधिक है। इसे देखते हुए आने वाले दिनों में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। डीआइजी डॉ. प्रीतिदर सिंह ने बताया कि आदेश का पालन किया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस