जागरण संवाददाता, महोबा : लंबे समय बाद महाविद्यालय की कक्षाओं में रौनक फिर से लौट रही है। इसको लेकर छात्र-छात्राओं में उत्साह है। कॉलेज भी छात्रों की अगवानी को बेताब है। कोरोना संक्रमण को लेकर इसके लिए पहले से ही तैयारियां कर ली गई हैं। कक्षाओं में आम दिनों की अपेक्षा छात्र संख्या आधी रहेगी। प्रवेश से पहले स्क्रीनिंग की गई। इसके बाद सैनिटाइजर टनल से होकर छात्र-छात्राएं क्लास तक पहुंचेगे। इस दौरान दो गज की दूरी का ध्यान रखा जाएगा।

कोविड-19 ने शिक्षण कार्य भी प्रभावित किया है। हालांकि, अब धीरे-धीरे लोगों की जिदगी पटरी पर आने लगी है और महाविद्यालयों में भी शिक्षण कार्य शुरू कराने को हरी झंडी मिल गई है। सोमवार से महाविद्यालयों में कक्षाएं शुरू हो रही हैं। इसके लिए कोविड-19 नियमों का पालन कर विशेष सतर्कता बरती जाएगी। शहर के वीरभूमि राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. सुशील बाबू ने बताया कि बच्चों को मास्क लगाकर व सैनिटाइजर साथ में लाने को कहा गया है। महाविद्यालय में सैनिटाइजर टनल लगवाया गया है। थर्मल स्क्रीनिग होने और मास्क लगाने के बाद ही छात्र छात्राओं को प्रवेश दिया जाएगा। कक्षाओं में कुल सीटों के सापेक्ष पचास फीसद ही छात्र बैठेंगे। पहले 10 कमरों में शिक्षण कार्य होता था अब कक्षों की संख्या बढ़ाकर 15 कर दी गई है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के नियमों का पूरी तरह पालन कराया जाएगा। इसके लिए छात्र छात्राओं को जागरूक करते हुए जरूरी दिशा निर्देश दिए गए हैं। मास्क नहीं लगाने वाले छात्रों को नहीं मिलेगा प्रवेश

कोरोना संक्रमण के बीच सोमवार से जिले के डिग्री कॉलेज खोलने के आदेश दिए गए हैं। इसके चलते कालेजों में कोविड-19 के नियमों का पालन कराया जाएगा। कॉलेज में आने वाले छात्रों को बिना मास्क के इंट्री नहीं दी जाएगी। इसके साथ ही कॉलेज आने वाले हर छात्र छात्रा की थर्मल स्क्रीनिग की जाएगी।

शासन के निर्देशानुसार सोमवार से जिले के डिग्री कॉलेजों के दरवाजे छात्रों के लिए खोल दिए जाएंगे। साथ ही छात्र-छात्राओं का अध्यापन कार्य सोमवार से शुरू हो सकेगा। इसे लेकर कॉलेज प्रशासन की ओर से सारे इंतजामात भी पूरे कर लिए गए हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस