जासं, अमृतसर : जाली डिग्री पर शहर के नामी अस्पतालों में प्रैक्टिस कर चुके तरुण अरोड़ा नाम के फर्जी डाक्टर के खिलाफ सदर थाना की पुलिस ने धोखाधड़ी और द इंडियन मेडिकल कौंसिल एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। आरोपित भूमिगत हो गया है। एएसआइ गुरजीत सिंह ने बताया कि उसकी गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।

फिलहाल आरटीआइ (राइट टू इन्फार्मेशन) एक्टिविस्ट अंकुर गुप्ता की शिकायत पर पुलिस ने मोहकमपुरा के पवन नगर निवासी तरुण अरोड़ा को नामजद कर लिया है। अंकुर ने बताया कि आरोपित के साथ दो साल पहले उनकी मुलाकात हुई थी। इस दौरान तरुण ने उन्हें बताया था कि वह अमनदीप अस्पातल, हरजोत अस्पताल, प्रकाश अस्पताल में कुछ महीनों तक नौकरी कर चुका है। अब वह बटाला रोड पर अपना क्लीनिक खोलकर लोगों की सेवा करना चाहता था। तरुण का आचरण काफी अच्छा था। तरुण ने बताया कि उसके पास बीएएमएस (बेचलर आफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी) की डिग्री है। उनके प्रयास से तरुण को बटाला रोड पर एक किराये पर दुकान भी लेकर दी गई। फरवरी 2020 में उन्हें आरोपित की डिग्री पर संदेह हुआ। इसके बाद उन्होंने इस बाबत पुलिस को शिकायत की। दूसरे छात्र की डिग्री का नंबर इस्तेमाल कर अपना नाम लिखा

पुलिस ने शिकायत के बाद जांच की तो पाया कि आरोपित की कौंसिल आफ अलटरनेटिव सिस्टम आफ मेडिसिन मोहाली से की गई डिग्री फर्जी है। आरोपित ने किसी दूसरे छात्र की डिग्री का नंबर इस्तेमाल कर उस पर अपना नाम अंकित किया हुआ था। इसके बाद पुलिस ने आरोपित तरुण के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021