जेएनएन, बिलंदपुर गद्दीपुर, शाहजहांपुर : बीमा एजेंट की गला घोटकर हत्या कर दी गई। शव गुरुवार सुबह घर से कुछ दूरी पर पड़ा मिला। स्वजनों की सूचना पर पुलिस ने गांव के ही एक युवक को पूछताछ करने के बाद निगरानी में ले रखा है। हालांकि स्वजन किसी पर आरोप नहीं लगा रहे है।

सिधौली थाना क्षेत्र के गोरा रायपुर गांव निवासी बीमा एजेंट संजीव कुमार दीक्षित बुधवार शाम को घर से निकले थे। देर रात तक घर नहीं लौटे तो स्वजन ने उनकी तलाश भी की। गुरुवार सुबह घर से 100 मीटर दूरी पर राममोहन के मकान के सामने उनका शव मिला। उन्होंने स्वजन को सूचना दी। संजीव के गले पर निशान होने की वजह से उनकी साइकिल की चैन से गला घोटकर हत्या की आशंका जताई जा रही है। गले में दो जगह चाकू से प्रहार व पीठ पर भी चोट के निशान हैं। प्रभारी निरीक्षक जग नारायण पांडेय ने शक के आधार पर गांव के एक युवक से पूछताछ की जो रिश्ते में भतीजा है। निगरानी के लिए दो सिपाही उसके घर के पास तैनात किए हैं। वहीं, फोरेंसिक टीम ने मौके पर जांच-पड़ताल की। संजीव की दो बेटे सचिन, अंशुल व बेटी आयुषी दीक्षित हैं। जिनकी जिम्मेदारी पत्नी शांति देवी पर आ गई है। सपा जिलाध्यक्ष तनवीर खां ने पोस्टमार्टम हाउस पहुंचकर संजीव के स्वजन को ढांढस बंधाया। जल्द घटना का राजफाश कराने का भरोसा दिया।

झोपड़ी में गया डाग स्क्वॉड

घटना स्थल पर संजीव की चप्पलें भी मिली है। जिन्हें सूंघकर डाग स्क्वॉड गांव के पश्चिम में सुशील की झोपड़ी में गया। इसके बाद गांव के ही करीब चार अन्य लोगों के घर पहुंचा।

रुपये व मोबाइल गायब

संजीव के बेटे अंशुल दीक्षित ने बताया कि पिता बुधवार अपराह्न तीन बजे घर से निकले थे। उनके पास करीब 15 हजार रुपये थे, जिसमे 10 हजार रुपये बुधवार को ही एक बैंक मित्र से लिए थे। रुपये और मोबाइल गायब है। अंशुल के मुताबिक उनकी किसी से रंजिश नहीं थी। ऐसे में लूट के इरादे से हत्या की आशंका जताई जा रही है।

छोटे भाई की भी हुई थी हत्या

संजीव के छोटे भाई राजीव दीक्षित होमगार्ड थे। करीब 20 साल पहले उनकी गांव से कुछ दूरी पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

वर्जन

शक के आधार पर कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है। जो तहरीर मिलेगी, उसी आधार पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

जगनारायण पांडेय, प्रभारी निरीक्षक सिधौली

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021