जागरण संवाददाता, महोबा : भगवती मानव कल्याण संगठन एवं पंच ज्योति शक्ति तीर्थ सिद्धाश्रम ट्रस्ट की ओर से रविवार को शहर के एक होटल में मासिक महाआरती का आयोजन किया गया। इसमें शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से बड़ी संख्या में महिला पुरुषों ने हिस्सा लिया। इसमें कहा, मानवता और राष्ट्र सेवा मनुष्य का प्रमुख कर्तव्य है।

दिव्य महाआरती का शुभारंभ कुमारी पूजा कुशवाहा व संध्या कुशवाहा ने मां के जयकारों के साथ कराया। साधना, शंख ध्वनि, समर्पण, स्तुति के साथ धार्मिक अनुष्ठान का पूर्ण कराया गया। साधना के बाद मौजूद मां भक्तों को संबोधित करते हुए चेतना पार्टी के प्रदेश सचिव योगेंद्र अवस्थी ने कहा कि धर्म रक्षा, मानवता की सेवा, राष्ट्र की सेवा ही मनुष्य का प्रमुख कर्तव्य है। हमें अपना जीवन समाज को समर्पित करना चाहिए। आशा कुशवाहा ने कहा, मां की भक्ति करते हुए सादा जीवन जीएं। उन्होंने साधना क्रियाओं की जानकारी दी। टीम प्रमुख सुनील विश्वकर्मा ने कहा कि जीवन की उच्चता को प्राप्त करना है तो मां की साधना करनी होगी। महाआरती के दौरान जिलाध्यक्ष रामबाबू, अखिलेश कुमार शिवहरे, माया, कुसुम, रेखा, प्रियंका, आशुतोष, जगदीश, बृजेंद्र सहित तमाम मां भक्त मौजूद रहे। आश्रम में हुआ कार्यक्रम

कोतवाली क्षेत्र के सिजनौडा मार्ग स्थित श्रीबजरंग आश्रम में प्रतिवर्ष की तरह गोपाष्टमी पर मेले का आयोजन किया गया। मेले में कस्बा सहित आसपास के दर्जनों गांवों से पहुंचे श्रद्धालुओं ने भजन,कीर्तन के साथ ही बजरंगबली के मंदिर में प्रसाद चढ़ाया है। आश्रम के महंत स्वामी बजरंग दास ने बताया कि प्रति वर्ष यहां पर गोपाष्टमी से शुरू होने वाला कार्यक्रम एक सप्ताह तक चलता था। जिसमें साप्ताहिक श्रीमछ्वागवत कथा का आयोजन होता था। लेकिन इस वर्ष कोविड के चलते भागवत कथा का आयोजन स्थगित कर दिया गया है और कार्यक्रम को सूक्ष्मता से करते हुए 29 नवंबर को अखंड कीर्तन के बाद 30 नवंबर को भंडारे का आयोजन किया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस