मेरठ, जेएनएन। शहर के आभूषण व्यवसायी और डिजाइनर हर्षित बंसल ने मेरठ के आभूषण कारोबार की धाक विश्व पटल पर जमा दी है। उन्होंने 12638 हीरों से अंगूठी तैयार कर गिनीज बुक आफ वल्र्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराया है। शहर सराफा स्थित मैसर्स रेनानी ज्वैलर्स के प्रबंध निदेशक हर्षित ने बताया कि वह तीन साल से इसे तैयार करने में लगे थे।

हर्षित ने मेरठ के एनआइजेटी (नेशनल इंस्टीट््यूट आफ ज्वैलरी टेक्नोलाजी) और फिर सूरत के आइएसजीजे (इंटरनेशनल स्कूल आफ जेम्स एंड ज्वैलरी) से डायमंड डिजाइङ्क्षनग और ग्रेङ्क्षडग का कोर्स किया है। उन्होंने सूरत में प्रशिक्षण के बाद वहां हीरे तराशने वाली कंपनियों में काम भी किया। डेढ़ वर्ष पहले उन्होंने ज्वैलरी शोरूम खोला था। उनके पिता अनिल बंसल का इलेक्ट्रिकल आइटम का व्यापार है। 25 वर्षीय हर्षित ने बताया कि शुरू से ज्वैलरी व्यवसाय में कुछ करने का सपना था। पिता ने उन्हें प्रोत्साहित किया। जिस समय वह सूरत में प्रशिक्षण कर रहे थे उसी दौरान उन्हें इस प्रकार की अंगूठी डिजाइन करने का विचार कौंधा था। अंगूठी कोरोना काल के पूर्व तैयार हो गई थी। पर इसकी लांङ्क्षचग और गिनीज बुक की टीम द्वारा कई महीने चली जांच के बाद 30 नवंबर को प्रमाण पत्र मिला।

हर्षित ने बताया कि वह मेरठवासियों को उनकी मांग और पसंद के अनुसार आभूषण उपलब्ध कराना चाहते हैं। देश ही नहीं विदेशों की नामी-गिरामी हस्तियों के लिए आभूषण डिजाइन कर मेरठ का नाम रोशन करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वह हर डिजाइन में कुछ नया करने का प्रयास करते हैं। पुरस्कार मिलने पर उनके परिवार में खुशी का माहौल है।

मेरठ बुलियन ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रदीप अग्रवाल, महामंत्री विजय आनंद अग्रवाल और सोना चांदी व्यापार संघ के अध्यक्ष संत कुमार वर्मा ने हर्षित को बधाई दी है। इन्होंने कहा कि हर्षित ने विश्व पटल पर मेरठ की ज्वैलरी को पहचान दिलाई है।

मेरे लिए अनमोल है अंगूठी

गेंदे के फूल की तरह दिखने वाली अंगूठी का नाम 'द मैरीगोल्ड- द रिंग आफ प्रोसपेरिटी' रखा है। अंगूठी का वजन 165.450 ग्राम है। इसके पहले का रिकार्ड 7808 हीरे से तैयार अंगूठी का था। अंगूठी में 38.08 कैरेट के 12638 प्राकृतिक हीरों का प्रयोग किया गया है। अंगूठी में लगे हीरे अंतरराष्ट्रीय जेमोलाजी लैबोरेटरी द्वारा प्रमाणित हैं। अंगूठी का दाम पूछने पर हर्षित ने बताया कि यह अनमोल है। इसे उन्होंने आत्मसंतुष्टि के लिए बनाया है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप