राज्य ब्यूरो, पटना : लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष चिराग पासवान अब दलित-सवर्ण गठजोड़ बनाकर प्रदेश में अपनी राजनीति को नया रंग देने की कोशिश में हैं। इसकी बानगी है कि उन्होंने राजू तिवारी को प्रदेश लोजपा का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया है। उन्हें पार्टी के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष की जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया गया है। सांसद प्रिंस राज पहले की तरह पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बने रहेंगे।  इसी के साथ चिराग ने अपने करीबी पार्टी प्रवक्ता संजय पासवान को प्रदेश इकाई का प्रधान महासचिव बनाया है। 

प्रदेश कार्यकारिणी, प्रकोष्ठों एवं जिलाध्यक्षों का होगा एलान 

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि जल्द ही प्रदेश कार्यकारिणी, प्रकोष्ठों एवं जिलाध्यक्षों का एलान होगा। दलित और सवर्ण वर्ग के अलावा पिछड़े वर्ग को प्रतिनिधित्व मिलने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि बिहार में विधानसभा चुनाव के बाद चिराग ने प्रदेश संगठन से लेकर निचले स्तर तक की तमाम इकाइयों और प्रकोष्ठों को भंग कर चुके हैं। बहरहाल राजू तिवारी को कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने पर कई नेताओं में नाराजगी की सुगबुगाहट शुरू हो गई है, जो फिलहाल खुले तौर पर बोलने से परहेज कर रहे हैं। ऐसे नेताओं की मानें तो अब सिर्फ प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा का इंतजार है। 

208 नेताओं ने थामा था जदयू का दामन 

उल्लेखनीय है कि हाल ही में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के 208 नेताओं ने अपने समर्थकों के साथ सामूहिक रूप से जनता दल युनाइटेड (जदयू) का दामन थामा है। विधान परिषद में पार्टी की एकमात्र सदन नूतन सिंह भी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पाले में जा चुकी हैं। वे राज्य के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री नीरज सिंह बबलू की पत्नी हैं, जो छातापुर से भाजपा के विधायक हैं। अपने एकमात्र विधायक राजकुमार सिंह को भी लेकर पार्टी इत्मीनान में नहीं, क्योंकि उन पर भी दूसरे दलों द्वारा डोरे डाले जाने की सूचनाएं मिल रही हैं। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप