जागरण संवाददाता, अल्मोड़ा : राज्य में तीर्थाटन व पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नवग्रह सर्किट बनाया गया है। अल्मोड़ा जिले में जागेश्वर, सूर्य मंदिर कटारमल, लोकदेवता गोलज्यू महाराज समेत नौ प्रमुख पुरातात्विक महत्व वाले प्राचीन मंदिरों को इसमें शामिल किया गया है। इसी के मद्देनजर राज्य सरकार ने पर्यटन विकास योजनाओं के लिए 8803 करोड़ रुपये के कार्य 15वें वित्त आयोग में प्रस्तावित किए हैं।

यह बात पर्यटन व संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने विकास भवन सभागार में कही। उन्होंने 564.94 लाख रुपये की लागत वाली ग्रामीण पर्यटन व सिंचाई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। कहा कि राज्य में साहसिक पर्यटन को सभी जिलों में बेहतर सुगम नए मार्ग स्थल विकसित किए जा रहे। धार्मिक सर्किट  से स्वरोजगार व सरकार की आय भी बढ़ेगी।

नवग्रह सर्किट में ये शामिल

जागेश्वर मंदिर शिव सर्किट, चितई गोलज्यू, बिनसर में गैराड़ गोलज्यू को नागराजा व गोलज्यू मंदिर सर्किट, छतगुल्ला द्वाराहाट के बदरीनाथ मंदिर व नारायणकाली के राम मंदिर विष्णु राम तथा नरसिंह मंदिर सर्किट में, मानिला में मां मानिला देवी, कटारमल में सूर्यमंदिर, विजयपुर द्वाराहाट में खलबाग स्थित पौराणिक महत्व के शनिदेव मंदिर आदि।

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण से अनुमति के निर्देश

पर्यटन मंत्री सतपाल ने ऐतिहासिक कटारमल में जर्जर भवनों की मरम्मत को भारतीय पुरातत्व इकाई से अनुमति तथा लखुउडियार गुफा को संरक्षित किए जाने के निर्देश दिए। साथ ही कटारमल व जागेश्वर में लेजर लाइट व साउंड शो तथा ऐपण पर वीडियो फिल्म बनाने को कहा।

कोसी व पर्यटन विकास के कार्यों की सराहना

विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने मंत्री से छोटे पर्यटन स्थल विकसित करने, होमस्टे योजना से जुड़ी समस्याएं दूर करने व मां नंदादेवी मंदिर की छत दुरुस्त किए जाने का आग्रह किया। इस पर पर्यटन मंत्री ने डीएम नितिन सिंह भदौरिया को आगणन बना प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। मंत्री ने कोसी पुर्नजनन अभियान से जुड़े अधिकारियों को प्रशस्तिपत्र भी दिए गए। इस मौके पर केएमवीएन अध्यक्ष केदार जोशी, पालिकाध्यक्ष प्रकाश चंद्र जोशी, भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष कुंदन लटवाल आदि मौजूद रहे।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021