बदायूं, जेएनएन : बर्ड फ्लू के बढ़ते प्रकोप को लेकर जिले में चौकसी बरती जा रही है। उझानी में उड़ता चील अचानक गिर गया और उसकी मौत हो गई। बर्ड फ्लू का शोर मचा तो पशु चिकित्सा अधीक्षक मौके पर पहुंच गए और उसका नमूना लिया। इसके अलावा जिलेभर में अभियान चलाकर तालाबों के किनारे मरे मिले पक्षियों के भी 326 नमूने लिए गए। पशुपालन विभाग की टीमें नदियों और तालाबों के किनारे भी निगरानी कर रही हैं।

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा. एके जादौन के नेतृत्व में पशुपालन विभाग की टीमों ने मुर्गी फार्मों से मुर्गियों और नदी, तालाबों के किनारे मृत मिले पक्षियों से भी नमूने लिए। सागर ताल से वन विभाग के सहयोग से पक्षियों के सात नमूने एकत्रित किए गए। दातागंज की टीम ने 90, सदर तहसील की टीम ने 82, सहसवान की टीम ने 100, बिसौली में 22 और बिल्सी में 32 नमूने लिए गए। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जिले में बर्ड फ्लू का अभी तक कोई केस नहीं मिला है। उन्होंने जिले के लोगों को सुझाव दिया है कि कच्चा अंडा कतई न खाएं। अंडा व मीट पकाकर ही खाएं। किसी अफवाह पर ध्यान न दें। पांच या पांच से अधिक पक्षियों के मरने की सूचना मिलती है तो कंट्रोल रूम को जरूर अवगत कराएं। संसू, उझानी : गुरुवार दोपहर में उड़ते समय एक चील बदायूं रोड स्थित एक टैंटहाउस के सामने सड़क पर गिर गया। कुछ ही देर में उसकी मौत हो गई। टेंट स्वामी और लोगों ने बर्ड फ्लू को देखते हुए पशु चिकित्सा अधीक्षक डा. विवेक माहेश्वरी को इससे अवगत कराया तो उन्होंने मौके पर पहुंचकर नमूना लिया। इसको लेकर नगर में बर्ड फ्लू की चर्चा होती रही। हालांकि, पशु चिकित्सा अधीक्षक ने बताया कि चील में बर्ड फ्लू जैसे कोई लक्षण नहीं दिखाई दिए हैं। एहतियात के तौर पर नमूना लेकर जांच के लिए आइवीआरआइ बरेली भेजा जा रहा है। दो पहले भी उझानी में एक कबूतर की गिरकर मौत हुई थी, तभी उसका नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021