मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Akhilesh Yadav for PM Candidate:  मुरादाबाद के समाजवादी पार्टी के सांसद डा. एसटी हसन (MP Dr. ST Hasan) का कहना है कि सपा की सीटें 70 से अधिक होंगी तो हमारी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) भी पीएम पद के लिए दावेदार हो सकते हैं। वह प्रधानमंत्री पद (PM Candidate) के लिए पूरी तरह से परफेक्ट हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) के एनडीए से अलग होते ही विपक्ष के प्रधानमंत्री के दावेदारों पर भी चर्चा होने लगी है। नीतीश कुमार को अगले प्रधानमंत्री के दौड़ में शामिल होने की बात शुरू हो गयी है। इनके अलावा बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और एनसीपी के नेता शरद पवार (Sharad Pawar) का नाम भी प्रधानमंत्री की रेस में शामिल हैं।

सपा सांसद ने कहा कि पांच साल यूपी की सत्ता की जिम्मेदारी अखिलेश यादव ने बखूबी से निभाई है। विपक्ष में अलग प्रधानमंत्री का दावेदारों के सवाल पर पहले तो सांसद एसटी हसन कहने लगे अखिलेश यादव जी अभी प्रधानमंत्री पद के लिए रेस में नहीं हैं। लेकिन, अगर सपा के सांसदों की संख्या अधिक हुई तो फिर अखिलेश यादव ही पीएम की रेस में सबसे आगे रहेंगे।

उन्होंने कहा कि सपा उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य प्रदेशों में भी लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी उतारेगी। महत्वपूर्ण बात यह है कि पूरे विपक्ष को एक साथ मिलकर चुनाव लड़ना चाहिए। इससे विपक्ष मजबूत होगा। यदि सरकार बनाने लायक प्रत्याशी जीतकर आए तो प्रधानमंत्री का नाम तय कर लेंगे।

2024 में मिलेगा नया प्रधानमंत्री

सपा सांसद ने कहा कि भाजपा गैर कानूनी तरीके से नीतीश कुमार की पार्टी के विधायकों को लालच देकर अपने पक्ष में रखना चाहती थी। लेकिन, उनका मकसद पूरा नहीं हो सका। कहने लगे कि मैं अभी इतनी बड़ी तो राजनीति नहीं करता हूं लेकिन, 2024 के लोकसभा चुनाव के बाद देश को नया प्रधानमंत्री मिलेगा। यूपी में भाजपा से सपा का ही मुकाबला है। इसलिए दूसरे दलों को अन्य प्रदेशों में मेहनत करनी चाहिए।

इससे पहले अखिलेश यादव ने 2024 में नीतीश कुमार की उम्मीदवारी के सवाल को टाल दिया था। अखिलेश ने जवाब देते हुए कहा, मैं इतनी बड़ी राजनीति तो नहीं करता हूं। लेकिन, 2024 में देश को एक चेहरा जरूर मिलेगा। वह चेहरा कौन होगा, मैं नहीं जानता। लेकिन चेहरा मिलेगा जरूर।

बीजेपी को अगर रोका जा सकता है तो प्राथमिक तौर पर उत्तर प्रदेश से ही हो सकता है। यूपी में सपा ही बीजेपी का मुकाबला करेगी। क्योंकि यहां कई दल ऐसे हैं, जो बीजेपी से ही मिले हुए हैं। ऐसे दलों के नेताओं को भी जनता ने सबक सिखाने का फैसला कर लिया है।

Edited By: Vivek Bajpai

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट