मुजफ्फरपुर, जासं। ब्रह्म्मपुरा थाने में तैनात महिला सिपाही कविता कुमारी का पुणे के हिंजेवडी थाना क्षेत्र के चांदनी चौक स्थित एक होटल के कमरे से शव मिलने की जांच तेज हो गई है। इस मामले में पुणे की क्राइम ब्रांच के अधिकारी सभी बिंदुओं पर जांच कर रहे है। सिपाही का मोबाइल जब्त कर लिया गया है। काल डिटेल्स का पुणे पुलिस व क्राइम ब्रांच के अधिकारी अवलोकन कर रहे हैं, मौत की गुत्थी सुलझाई जा सके।

यहां कोई मामला नहीं है, पुणे चले जाइए

दूसरी ओर पुणे क्राइम ब्रांच द्वारा महिला सिपाही के शव का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। प्रारंभिक जांच में खुदकुशी का मामला बताया जा रहा है। स्वजन भी शुक्रवार को पटना-पुणे ट्रेन से वहां के लिए रवाना हो गए हैं। सिपाही के छोटे भाई अभिजीत कुमार ने बताया कि गुरुवार की रात उनलोगों को घटना की जानकारी पुलिस लाइन के सिपाहियों से मिली थी। इसके बाद कविता के पति सुमित कुमार व पिता बृजभूषण कुमार शुक्रवार को मुजफ्फरपुर पहुंचे। यहां ब्रहमपुरा थाने की पुलिस से संपर्क स्थापित किया। इस पर थानाध्यक्ष ने उन्हें जबाव दिया कि यहां कोई मामला नहीं है। पुणे चले जाइए। इसके बाद वे दोनों पुणे के लिए निकल गए।

धोखाधड़ी मामले में कार्रवाई के लिए पुणे गई थी

मालूम हो कि कविता मूल रूप से भोजपुर जिले की कोईलवर की रहने वाली थी। उनकी मां पूर्व में वहां की वार्ड पार्षद रह चुकी हैं। कविता ब्रहमपुरा थाने में 2021 में दर्ज धोखाधड़ी व गबन के मामले में कार्रवाई के लिए पुलिस टीम पुणे गई थी। टीम में दारोगा ओमप्रकाश के साथ कविता व एक पुरुष सिपाही शामिल थे।

पुलिस का कहना है कि टीम आठ अगस्त को पुणे के लिए रवाना हुई थी। वहां पहुंचने के बाद पुणे के एक होटल में वे लोग ठहरे थे। इसके बाद गुरुवार को होटल के कमरे में कविता का शव फंदा से लटका मिला। नगर डीएसपी रामनरेश पासवान ने बताया कि पुणे पुलिस मामले में जांच कर कार्रवाई कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के सही कारण का पता चलेगा।

फोन काल के दौरान पर हुआ था विवाद

अभिजीत ने बताया कि उसकी बहन कविता की शादी करीब छह माह पूर्व सुमित से हुई थी। सुमित वन विभाग में कार्यरत है। पुणे पहुंचने का जिक्र कविता ने वाट्सएप केडीपी में किया था। शाम में पति से उनकी बात भी हुई थी। आशंका जताई जा रही कि मोबाइल पर बातचीत के दौरान ही दोनों में किसी बात को लेकर विवाद हुआ था।

पुणे पुलिस ने दारोगा व सिपाही से की पूछताछ

घटना की सूचना पर पुणे की पुलिस होटल में पहुंचकर छानबीन की। मौत की गुत्थी सुलझाने को लेकर दारोगा ओम प्रकाश प्रसाद व सिपाही से कई घंटों तक पूछताछ की। पुणे पुलिस स्वजन का इंतजार कर रही है। इधर, घटना के संबंध में एसएसपी जयंत कांत ने पुणे के पुलिस पदाधिकारी से बात कर जानकारी ली है।

94 लाख की धोखाधड़ी व ठगी में पुणे पहुंची थी ब्रहमपुरा पुलिस

94 लाख की धोखाधड़ी व ठगी के मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर ब्रहमपुरा थाने की टीम पुणे गई थी। मालूम हो कि ब्रह्मपुरा थाना क्षेत्र के झिटकहिया इलाके के हार्डवेयर कारोबारी रामशंकर प्रसाद चौधरी ने दो जुलाई 2021 को मामला दर्ज कराया था। इसमें कहा था कि आमगोला इलाके के प्रकाश कुमार सिन्हा उर्फ कुंवर जी और उनकी पत्नी रेणु सिन्हा से उनकी पूर्व से जान पहचान है। ये लोग जमीन की खरीद-बिक्री का काम करते है।

जमीन के धंधे में लाभ की बात बताकर प्राय: पैसा लेकर समय पर वापस कर देते थे। इसके बाद विभिन्न तिथियों पर कुल एक करोड़ 72 लाख 95 हजार 606 रुपये लिए। इसके बाद 78 लाख 95 हजार रुपये वापस किया। शेष 94 लाख 606 रुपये अब तक बाकी है। इसे 2021 में वापस कर देना था, लेकिन समय पर नहीं दिया। इसके बाद उन्हें कोर्ट नोटिस भेजा। इसके बाद कहा कि रुपये वापस नहीं करेंगे। तब जाकर थाने में मामला दर्ज कराया।

Edited By: Ajit Kumar