आजादी के बीच घुटन

एएफपी से मिली एक खबर की माने तो सउदी अरब में महिलाओं को मिलने वाली आजादी की खबरों पर यकीन करना मुश्‍किल हो जायेगा। हाल ही में यहां महिलाओं को गाड़ी चलाने की इजाजत मिली है इसकी काफी खुशी भी मनाई गई। इस खबर को दुनिया में फैलाने का काम मीडिया ने ही किया जिसमें महिला पत्रकार भी शामिल थीं। ऐसी ही एक महिला रिपोर्टर ने शायद सोचा भी नहीं होगा की आजादी के इस दौर का जश्‍न सबके साथ मनाने के पहले ही वहां की रुढ़िवादी सोच का नया शिकार वही होंगी। अनजाने में हुई एक घटना उसको इतना परेशान कर देगी कि उसे अपना घर परिवार ही नहीं देश भी छोड़ कर जाना होगा। 

क्‍या था मामला 

इन दिनों दुबई के अल आन टीवी चैनल की रिपोर्टर शिरीन अल-रिफाई का एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में उनके सिर पर बंधा स्कार्फ ढीला दिखाई दे है और हवा में के झोंके से उनका गाउन जिसे आयबा कहते हैं थोड़ा सा खुल गया है जिसकी वजह से उनका पैंट और टॉप दिख रहा है। इस वीडियो के चलते शिरीन की सऊदी अरब के सोशल मीडिया पर बहुत आलोचना हो रही है। यहां तक कि ट्विटर पर अरबी भाषा में ये वीडियो हैशटैग नेकेड वोमेन ड्राइविंग इन रियाद के नाम से साझा हो रहा है। इसके बाद सऊदी प्रशासन ने कहा है कि उन्होंने शिरीन का मामला जांचकर्ताओं को सौंप दिया है, और खिलाफ जांच शुरू कर दी है। शिरीन पर आरोप है कि रिपोर्टिंग के दौरान उन्होंने 'अश्लील कपड़े' पहनकर नियमों और आदेशों का उल्लंघन किया है। 

मैंने नहीं तोड़ा कोई नियम 

इस बीच शिरीन का एक बयान सामने आया है जिसमें उन्‍होंने कहा है कि ना तो उन्‍होंने कोई नियम तोड़ा है ना ही अश्‍लील कपड़े पहने हैं। उनका कहना है कि वे महिलाओं को मिलने वाली ड्राइविंग की आजादी पर लाइव रिर्पोटिंग के लिए सड़क पर थीं और लोगों से बात कर रही थीं। तभी एक कार के बगल से निकलने के कारण हवा से उनका गाउन थोड़ा उड़ गया जिससे उनका टॉप और पैंट दिखाई दे गया। इसके बाद वो अपने सर पर रखे स्‍कॉर्फ को भी ठीक ही कर रही थीं। इस बीच विवाद बढ़ने के बाद शिरीन सऊदी अरब छोड़कर कही चली गई हैं। ये पता नहीं है कि वो किस देश में हैं।

 

Posted By: Molly Seth