जागरण संवाददाता, रेवाडी : शहर से चार दिन पहले लापता हुए अलवर के मैटल व्यापारी का अभी कोई सुराग नहीं लग पाया है। बृहस्पतिवार को जांच के लिए रेवाड़ी पहुंची राजस्थान पुलिस ने कई जगहों पर सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले थे। अभी तक की जांच में व्यापारी की आखिरी लोकेशन गुरुग्राम के बिलासपुर में मिली है। स्वजन ने रेवाड़ी के दो लोगों पर अपहरण का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई है। शनिवार को व्यापारी के स्वजन ने पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार से भी मुलाकात की।

अलवर शहर के मुल्तान नगर रहने वाले मैटल व्यापारी मंगत अरोड़ा दस अगस्त को रेवाड़ी में एक मैटल व्यापारी से मिलने आए थे। उनके पास मोटरसाइकिल थी, सुबह करीब साढ़े 10 बजे मैटल व्यापारी से मिलने के बाद अलवर के लिए रवाना हुए थे, लेकिन बीच रास्ते में ही वह लापता हो गए थे। शहर के व्यापारी के अनुसार मंगत अरोड़ा को उन्होंने 12 लाख रुपये दिए थे। यह रकम अपनी बनियान के अंदर डालने के बाद यहां से चले गए थे। घर नहीं पहुंचे तो शुरू की तलाश बुधवार सुबह रेवाड़ी से चले जाने के बाद भी वह शाम तक अपने घर नहीं पहुंचे। मोबाइल पर भी स्वजन का संपर्क नहीं हुआ तो अलवर पुलिस को शिकायत देकर तलाश शुरू की गई। बृहस्पतिवार को अलवर पुलिस ने रेवाड़ी पहुंच कर सीसीटीवी कैमरों को खंगाला तो एक जगह वह मोटरसाइकिल पर जाते हुए दिखाई दिए थे। उनकी आखिरी लोकेशन गुरुग्राम के बिलासपुर में मिली है। अपहरण का मामला दर्ज व्यापारी के भाई गोवर्धन लाल अरोड़ा ने शहर के मोहल्ला संघी का बास के रहने वाले अंकित व गुडिया सराय के रहने वाले सुशील पर उनके भाई का अपहरण करने का आरोप लगाते हुए शहर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है। सांसद बालकनाथ ने भी व्यापारी की तलाश के लिए पुलिस अधिकारियों से बात की थी। शनिवार को व्यापारी के स्वजन ने रेवाड़ी पहुंच कर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार से मुलाकात की। एसपी ने जल्द तलाश करने का आश्वासन दिया है।

Edited By: Jagran