राज्य ब्यूरो चंडीगढ़। स्वतंत्रता दिवस से पहले गिरफ्तार किए गए चार आतंकियों के निशाने पर दिल्ली, मोहाली और मोगा थे। जहां इन्हें टारगेट कीलिंग की घटनाओं को अंजाम देना था। एनआइए ने वीरवार को चारों आतंकियों को मोहाली की अदालत में पेश करके जहां पांच दिन का रिमांड लिया, वहीं इनकी निशानदेही पर पंजाब के मोहाली व तरनतारन में छापेमारी भी की।

गैंगस्टर आतंकी अर्श डल्ला और गुरजंट जंटा के साथी इन आतंकियों के टारगेट पर दिल्ली, मोहाली और मोगा था। आतंकियों के पास टारगेट कीलिंग को अंजाम देने के लिए हथियार पहुंच चुके थे, लेकिन इन्हें अभी तक टारगेट नहीं दिया गया था। इससे पहले ही एनआइए व पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया।

वीरवार को उन्हें मोहाली कोर्ट में पेश कर 5 दिन का रिमांड लिया गया, जिसमें पुलिस उनके टारगेट के बारे में पूछताछ करेगी ताकि उन्हें अलर्ट किया जा सके।

पुलिस ने पूछताछ की तो गिरफ्तार आतंकी दीपक मोगा, सन्नी ईसापुर, संदीप सिंह और विपिन जाखड़ ने कई खुलासे किए। उन्होंने बताया कि वह जेल में बंद गैंगस्टर्स के भी संपर्क में थे। इनमें से एक सुखपाल सिंह को पुलिस प्रोडक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ कर रही है। कई दूसरे गैंगस्टर्स को लाने के लिए भी फाइल तैयार की जा रही है। पुलिस की पूरी कोशिश उनसे टारगेट का पता लगाने की है।

पुलिस जांच में पता चला कि इनसे बरामद पिस्टल और कारतूस पाकिस्तानी आर्मी इस्तेमाल करती है। पुलिस इसे पहले ही पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ स्पांसर्ड टेरर मॉड्यूल करार दे चुकी है। इनसे 3 हेंड ग्रेनेड भी बरामद की गई है।

Edited By: Kamlesh Bhatt