डीडीसी ने किया जागरूकता रथ को रवाना

संवाद सहयोगी, गढ़वा : आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन अंतर्गत आभा कार्ड बनाने को ले उप विकास पदाधिकारी राजेश कुमार राय ने मंगलवार को समाहरणालय परिसर से जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। आभा कार्ड भारत के प्रत्येक नागरिक का अनिवार्य रुप से बनाया जाने वाला यूनिक स्वास्थ्य पहचान पत्र है। इस रथ द्वारा प्रत्येक प्रखंड में आभा कार्ड का लाभ बताते हुए सभी नागरिकों को आभा कार्ड शीघ्र बनाने के लिए जागरुक किया जाएगा। आभा कार्ड सुशिक्षित लोग अपने मोबाइल से गूगल के माध्यम से वेबसाइट पर क्लिक कर या आरोग्य सेतू एप या आभा एप से भी बना सकते हैं। आभा कार्ड बनाना बेहद सरल है। इसे बनाने के लिए आवश्यक है कि आपका आधार कार्ड हो और वर्तमान में आपके द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला मोबाइल नंबर आधार से लिंक हो या जुङा हो। आभा कार्ड में आधार में निहित सामान्य जानकारी जैसे नाम,पता,उम्र, 14 अंकों का आभा नंबर व आभा एड्रेस उल्लेखित होगा।

आभा कार्ड के फायदों में सबसे महत्वपूर्ण यह है कि आपके स्वास्थ्य संबंधी सभी जानकारी बीमारी, जाँच, इलाज, दवा आभा कार्ड में दर्ज होगी। जिससे आप बिना किसी कागज़ के संपूर्ण भारत में आभा कार्ड द्वारा अपना इलाज करवा सकते हैं। इसमें आर्थिक लाभ नहीं है, उसके लिए आयुष्मान भारत का गोल्डन कार्ड बनवा सकते हैं। मौके पर सिविल सर्जन डा. कमलेश कुमार व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran