नई दिल्‍ली [ एजेंसी ]। ट्विटर पर आपके फॉलोअर लिस्ट का आकार छोटा हो सकता है। अगर ऐसा होता है तो आपको चौंकने या झल्‍लाने की जरूरत नहीं है। यदि आप एक सेलिब्रिटी हैं या पब्लिक फीगर हैं तो इसके लिए तैयार रहिए। ट्विटर की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि वह उन तमाम खातों को आपकी फॉलोअर्स लिस्ट से हटा रहा है, जिसको संदेह के आधार पर बंद किया गया था। ट्विटर की तरफ से यह कदम ऐसे वक्त में उठाया गया है जब इस माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ने इस साल मई और जून के बीच में बड़ी तादाद में अकाउंट्स को सस्पेंड किया था। पिछले हफ्ते ट्विटर ने फर्जी अकाउंट्स पर लगाम लगाने के लिए नए कदमों का ऐलान किया था।

बुधवार को ट्विटर के कानूनी और सुरक्षा प्रमुख विजया गड्डे ने अपनी एक ब्लॉग पोस्ट में कहा कि 'हम समझते हैं कि हमारा यह कदम कुछ लोगों के लिए मुश्किल पैदा कर सकता है, लेकिन ट्विटर जैसे सार्वजनिक वार्तालाप के इस मंच को और अधिक सटीक, पारदर्शी और भरोसेमंद बनाने के लिए यह कदम उठाना जरूरी था। उन्‍होंने कहा कि ट्विटर पर भरोसा कायम करने और स्वस्थ चर्चा को प्रोत्साहित करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। फॉलोवर्स की संख्या अर्थपूर्ण और सही-सही होनी चाहिए। हम बंद हुए अकाउंट्स को फॉलोवर्स लिस्ट से हटा रहे हैं।'

हमारी सूचना पर जिन यूजर्स ने अपने अकाउंट को वेरिफाइ नहीं किया या पासवर्ड नहीं बदला, उन अकाउंट्स को हमने फौरन बंद कर दिया है। अब ये बंद अकाउंट्स किसी की फॉलोअर लिस्ट में भी नहीं दिखेंगे। बता दें कि ट्विटर ने मई और जून में सात करोड़ से अधिक खातों को निलंबित कर दिया है। जुलाई माह में भी खातों के निलंबन का कार्य जारी रहेगा।

ट्विटर की तरफ से कहा गया कि हमने पिछले बरसों में वैसे अकाउंट्स बंद किए है, जहां हमें अचानक कुछ संदेह वाले बदलाव दिखे। ऐसे बदलावों को देखते हुए पहले हमने अपनी तरफ से यूजर्स तक इसकी सूचना पहुंचाई थी। ट्विटर ने बताया कि जब हमें किसी अकाउंट के व्यवहार में अचानक बदलाव देखते हैं तो उसे लॉक यानी बंद कर देते हैं। इसके बाद ट्विटर उन अकाउंट होल्डर्स से अपनी पहचान स्थापित करने को कहता है। पहचान स्थापित करने में विफल रहने वाले अकाउंट्स बंद पड़े रहते हैं और उनमें लॉग इन नहीं हो सकता।

ट्विटर के सीएफओ नेड सेगल ने उस रिपोर्ट को खारिज करते हुए कि जिसमें यह कहा गया था कि यह उन 3.3 अरब यूजर्स पर नहीं लागू होगा जो मौजूदा समय में ट्विटर का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। उन्‍होंने इसका स्पष्टीकरण देते हुए कहा हमारे द्वारा निकाले गए अधिकांश खातों में वो लोग शामिल नहीं हैं, जो इस प्लेटफ़ॉर्म पर 30 दिनों या उससे अधिक समय तक सक्रिय नहीं हैं।

 

By Ramesh Mishra