दिल्ली, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और गोवा के सीएम मनोहर पर्रीकर सहित 55 सांसद आज राष्ट्रपति चुनाव में संसद भवन की बजाय अपने राज्य विधानसभाओं में मतदान करेंगे। पांच विधायक अपना वोट संसद भवन में और चार अन्य विधायक अपना वोट ऐसी राज्य विधानसभाओं में डालेंगे जहां से वे निर्वाचित नहीं हुए हैं।

राष्ट्रपति चुनाव के नियमों के मुताबिक, सांसद या विधायक आयोग से यह कह सकते हैं कि एक अपवाद के तौर पर वह उन्हें किसी अन्य स्थान पर मतदान करने की इजाजत दे। चुनाव आयोग के दस्तावेज के अनुसार, उसने 14 राज्यसभा और 41 लोकसभा सदस्यों को आज संसद भवन की बजाय राज्य विधानसभाओं में मत डालने की इजाजत दी है। इनमें पर्रीकर, आदित्यनाथ और यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य शामिल हैं, जिन्होंने संसद की अपनी सदस्यता नहीं छोड़ी है।

पर्रीकर जहां राज्यसभा के सदस्य हैं, आदित्यनाथ और मौर्य लोकसभा सदस्य हैं। बता दें कि जो सांसद अपने राज्य की विधानसभाओं में मत डालेंगे उनमें अधिकतर टीएमसी के हैं। सांसद जहां अपना वोट डालने के लिए हरे रंग के मतपत्र का इस्तेमाल करेंगे, वहीं विधायक गुलाबी रंग के मतपत्र का इस्तेमाल करेंगे। विधायक के वोट का मूल्य उस राज्य की जनसंख्या पर निर्भर करता है, जिसका वह प्रतिनिधित्व करता है।

हालांकि सांसद के वोट का मूल्य नहीं बदलता और वह 708 रहता है। इसलिए निर्वाचन अधिकारी को मतपत्र के रंग से उसके मूल्य का पता चलेगा। पूरे निर्वाचक मंडल का मूल्य 1098903 है।

भारत के अगले राष्ट्रपति के लिये आज मतदान होना है। मतदान सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में होगा। चुनाव में एनडीए उम्मीदवार राम नाथ कोविंद और विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार आमने-सामने हैं लेकिन आंकड़ों में कोविंद का पलड़ा भारी दिख रहा है। मतों की गिनती 20 जुलाई को दिल्ली में होगी जहां विभिन्न राज्यों की राजधानियों से मत पेटियां लाई जायेंगी।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति चुनाव का मतदान आज, आंकड़ों में कोविंद का पलड़ा भारी

 

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस