इंदौर। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि उनकी सरकार प्रयास करेगी कि गोवंश पर देशभर में पूरी तरह रोक लगाने के लिए विधेयक लाएं। इसके लिए आम सहमति बनाने के प्रयास किए जाएंगे। वे रविवार को यहां श्वेतांबर स्थानकवासी जैन श्रमण संघ के चतुर्विध सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

राजनाथ सिंह ने कहा कि एक चींटी की भी जान बचाने के लिए जैन समुदाय सड़क पर झाड़ू लगाता है, तो हम गोहत्या कैसे सहन कर सकते हैं। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात में गोवध पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है, शेष भारत में भी प्रतिबंध लगाने की जरूरत है। वहीं, सम्मेलन को संबोधित करते हुए विहिप नेता अशोक सिंघल ने उम्मीद जताई कि गृहमंत्री अब गोवंश वध पर पूरी तरह रोक लगाने के लिए विधेयक लाएंगे और उसे पास भी कराएंगे।

आचार्य डॉ. शिवमुनि ने कहा कि भगवान कृष्ण, महावीर और महात्मा गांधी के इस देश में गोहत्या हो रही है। गोमांस का निर्यात किया जा रहा है और मांस उत्पादन एवं निर्यात पर सब्सिडी दी जा रही है। इस पर तत्काल रोक लगाना चाहिए। कटती गाय हमें कभी माफ नहीं करेगी। उन्होंने याद दिलाया कि अटलजी कहते थे कि भाजपा की सरकार आने पर गोवंश वध पर रोक लगाएंगे। अब केंद्र सरकार इस ओर ध्यान क्यों नहीं दे रही है। पहले की केंद्र सरकार ने गोमाता के मांस से धन कमाने का काम किया था। यह काम इस सरकार में भी जारी क्यों है?

कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्रीपद यशोनाइक भी मौजूद थे। इस अवसर पर देशभर से आए 51 हजार अहिंसा दूतों ने देश सेवा, अहिंसा, गो सेवा के साथ भ्रष्टाचार न करने और न करने देने का संकल्प लिया।

[साभार: नई दुनिया]

पढ़ें : सभी राज्यों में गौ हत्या पर पूर्ण प्रतिबंध के पक्ष में भाजपा

पढ़ें : गोवध पर हरियाणा में कड़ा कानून, होगी दस साल की कैद

Edited By: Sanjay Bhardwaj