नई दिल्‍ली, जेएनएन। देश के कई राज्य जहां इन दिनों बाढ़ की विभीषिका झेल रहे हैं वहीं पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन हो रहा है। हर साल बाढ़ की वजह से कुछ राज्यों को काफी नुकसान होता है मगर इन पर रोक नहीं लग पा रही है। पहाड़ी इलाकों में लैंड स्लाइड होने से यातायात का आवागमन पूरी तरह से ठप्प हो जाता है तो लाखों रूपये का आर्थिक नुकसान भी होता है। तस्वीरों के माध्यम से देखिए इन दिनों बाढ़ की वजह से कुछ राज्यों में क्या है हालात....

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के तीन तहसील क्षेत्रों के 30 से अधिक गांवों में पहाड़ी नालों का पानी भर गया है। राप्ती नदी चेतावनी बिंदु को पार कर लाल निशान छूने को है। 

उत्तर प्रदेश के मऊ में कहने को तो घोसी-नदवासराय-आजमगढ़ मार्ग जिले की मुख्य सड़क (एमडीआर) में गिनी जाती है पर गड्ढों से पटी यह सड़क बलुवापोखरा एवं नदवासराय बाजार में झील बनी है।

बिहार के सीतामढ़ी जिले के सोनबरसा, सूरसंड, बेलसंड, पुपरी प्रखंड में रातारोत बाढ़ का पानी फैल गया। इन इलाकों में सड़कों पर कहीं दो फीट तो कहीं तीन फीट पानी बह रहा है।

एसडीआरएफ की टीम को मोटरवोट के साथ प्रभावित क्षेत्र में तैनात किया गया है। जल संसाधन विभाग के अभियंताओं को तटबंधों की सुरक्षा में लगाया गया है।

महाराष्ट्र के कई इलाकों में पिछले कुछ दिनों से लगातार बारिश हो रही है। जिसकी वजह मुंबई के कई निचले इलाकों में जलभराव की समस्‍या पैदा हो गयी है, महाराष्ट्र के रायगढ़ में भूस्‍खलन के बाद मुंबई-गोवा राजमार्ग बंद कर दिया गया है पुलिस और प्रशासन मलबा हटाने के काम में जुटा हुआ है।

Arunachal Pradesh Police and East Siang District Disaster Management Agency rescue a couple who was stranded at Sibo Korong river in Pasighat due to heavy flooding.

अरुणाचल प्रदेश में पिछले पांच दिनों से बारिश हो रही है। पापुम पारे के उपायुक्त पीगे लीगू (Pige Ligu) ने बताया कि भूस्खलन की घटना बृहस्पतिवार शुक्रवार की दम्‍यानी रात को करीब ढाई बजे हुई।

 

मलबे की चपेट में आकर मकान में सो रहे परिवार के लोग दब गए। पुलिस, एनडीआरएफ और स्थानीय लोगों की मदद से शवों को मलबे से बाहर निकाला गया।

असम में आई बाढ़ ने राज्य की दिक्कतों को और बढ़ा दिया है। असम में लगातार हो रही बारिश के चलते बाढ़ ने विकराल रूप धारण कर लिया है।

असम के डिब्रूगढ़ के मोहना घाट क्षेत्र के गांवों में लगातार बारिश के बाद ब्रह्मपुत्र नदी का जल स्तर बढ़ने और रिंग बांध टूटने के बाद बाढ़ आ गई।

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस