नई दिल्ली [जागरण टीम]।  मकर संक्रांति के साथ जहां सूर्यदेव दक्षिणायन से उत्तरायण यानी मकर राशि में प्रवेश करते हैं। वहीं, ठंड भी कम होने लगती है, लेकिन इस वर्ष मौसम चक्र कुछ और ही इशारे दे रहा है। पहाड़ों में हिमपात और मैदानी क्षेत्रों में लगातार कई दिन हुई बारिश के बाद ठंड पहले से ज्यादा बढ़ गई है। शुक्रवार को कोहरे और बादलों ने दिल्ली एनसीआर सहित पूरे उत्तर भारत को ऐसा घेरा कि अधिकतम तापमान में पांच डिग्री तक की गिरावट दर्ज की गई। इसकी वजह से मौसम विभाग ने इसे कोल्ड डे की संज्ञा दी है। शनिवार को भी ऐसा ही मौसम बने रहने की संभावना है। दिल्ली में शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 15.4 डिग्री सेल्सियस, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 6.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

उत्तराखंड में मैदानी इलाकों में कोहरा बना मुसीबत

उत्तराखंड में मौसम शुष्क हो चुका है, लेकिन कड़ाके की ठंड बरकरार है। मैदानों में घना कोहरा तो पहाड़ों में पाला दुश्वारी का सबब बना हुआ है। देहरादून से कई हवाई सेवाएं प्रभावित रहीं, जबकि सड़क परिवहन पर भी कोहरे का व्यापक असर देखने को मिला। उधर, पहाड़ों में बर्फबारी के बाद पाला पड़ने से सड़क मार्ग खतरनाक हो गए हैं। मौसम विभाग की ओर से अगले कुछ दिन मौसम इसी प्रकार का बना रहने का अनुमान है। मैदानों में सुबह-शाम कोहरा छाया रह सकता है।

जम्मू कश्मीर में कोहरे और शीतलहर से लोग परेशान

 कश्मीर में भीषण ठंड के बीच अधिकतर स्थानों पर न्यूनतम तापमान गिर गया है। पूरे जम्मू कश्मीर में शीतलहर और कोहरे का प्रकोप बढ़ा है। श्रीनगर में न्यूनतम तापमान -3.4, जम्मू में 5.7 डिग्री है तो लद्दाख के द्रास में न्यूनतम तापमान -23.8 डिग्री सेल्सियस चला गया है। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग कश्मीर से जम्मू जाने वाले वाहनों के लिए ही शुक्रवार खोला गया। शनिवार को जम्मू से श्रीनगर के लिए वाहन भेज जाएंगे। मौसम वैज्ञानिकों ने अगले कुछ दिनों में मौसम मुख्य रूप से शुष्क रहने और न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज करने का पूर्वानुमान लगाया है।

Edited By: Monika Minal