नई दिल्ली, एजेंसी। दिल्ली, यूपी सहित भीषण गर्मी से जूझ रहे उत्तर भारत के राज्यों को इन दिनों मानसून का बेसब्री से इंतजार है। इस बीच मौसम विभाग ने मानसून को लेकर अच्छी खबर दी है। मौसम विभाग ने जानकारी दी है कि दक्षिण-पश्चिम मानसून मध्य अरब सागर के कुछ और हिस्सों, पूर्व गोवा, कोंकण के कुछ हिस्सों और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ गया है। मौसम विज्ञान की मानें तो पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, बिहार और झारखंड के इलाकों में लू का प्रकोप दो दिन तक जारी रहेगा। मौसम विभाग के अनुसार, अगले कुछ दिनों में दिल्ली में आंशिक रूप से बादल छाए रहने, तेज हवा चलने की उम्मीद है, लेकिन 15 जून तक गर्मी से कोई बड़ी राहत मिलने की संभावना नहीं है।

आइएमडी के अनुसार, उत्तरी अरब सागर के कुछ और हिस्सों, गुजरात, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों, तेलंगाना के कुछ और हिस्सों, आंध्र प्रदेश और बंगाल की खाड़ी के अधिकांश हिस्सों, पूरे उप-हिमालयी पश्चिम में मानसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल बनी रहेंगी। दो से तीन दिनों के भीतर यह मानसून बंगाल और सिक्किम, ओडिशा के कुछ हिस्सों, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार पहुंच जाएगा।इससे पहले महीने की शुरुआत में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मानसून के दौरान देश में बाढ़ की स्थिति से निपटने की तैयारियों की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की थी। केरल में एक जून को मानसून ने अपने समय से तीन दिन पहले अपनी शुरुआत की थी।

आज से यहा हो सकती है प्री मानसून की बरसात

विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक आर के जेनामणि ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर और पश्चिमोत्तर भारत के अन्य हिस्सों में अधिकतम तापमान में 15 जून तक कोई बड़ी राहत मिलने की संभावना नहीं है। आईएमडी ने बताया कि नमी युक्त पुरवाई चलने से 16 जून से भीषण गर्मी से काफी राहत मिलेगी। आईएमडी के अधिकारी ने बताया कि पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और ओडिशा में 12 जून से मानसून पूर्व गतिविधियां शुरू होने का पूर्वानुमान है, लेकिन उत्तरी राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तरी मध्य प्रदेश में 15 जून तक तापमान सामान्य से अधिक बना रहेगा।

दिल्ली वालों को कब मिलेगी गर्मी से राहत

राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री सेल्सियस अधिक 43.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने यह जानकारी दी। आईएमडी ने बताया कि न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 29.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। आईएमडी के अनुसार, अगले कुछ दिनों में दिल्ली में गरज के साथ आंशिक रूप से बादल छाए रहने, बिजली गिरने और तेज हवा चलने की उम्मीद है, लेकिन 15 जून तक गर्मी से कोई बड़ी राहत मिलने की संभावना नहीं है।

दो दिन देरी से महाराष्ट्र पहुंचा दक्षिण पश्चिम मानसून

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के एक अधिकारी ने यहां बताया कि दक्षिण पश्चिम मानसून अपने आगमन की सामान्य तिथि से दो दिन देरी से शनिवार को महाराष्ट्र पहुंचा। सामान्यत: कोंकण क्षेत्र में नौ जून तक मानसून पहुंच जाता है।उन्होंने कहा कि दक्षिण-पश्चिम मानसून कोंकण और मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में आ गया है। इससे राज्य के कुछ इलाकों में बारिश होगी। जिन क्षेत्रों में भारी बारिश की संभावना है, उन्हें भी अलर्ट कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगले 48 घंटों में महाराष्ट्र में मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं। अगर हालात सही रहे तो मानसून सिस्टम और आगे बढ़ेगा।

बिहार में कब आएगा मानसून?

मानसून की गति को देखते हुए मौसम विभाग ने 11 जून को बिहार पहुंचने की संभावना जताई थी। लेकिन मानसून के घूम जाने से यह 11 जून को महाराष्ट्र, कर्नाटक पहुंचा है। मौसम विभाग के मुताबिक बिहार और उत्तरप्रदेश में चक्रवाती हवा लगातार सक्रिय है। एक ट्रफ रेखा पिछले पांच दिनों से बिहार से होते हुए झारखंड, पश्चिम बंगाल, असम तक जा रही है। इसके प्रभाव से बिहार के उत्तरी हिस्से में स्थित पूर्वी-पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, शिवहर, मधुबनी, सुपौल, अररिया सहित 13 जिलों में मध्यम बारिश के आसार हैं। वहीं कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद में हीट वेव की स्थिति है। मौसम विभाग के मुताबिक, अभी बिहार के लोगों को मानसून के लिए थोड़ा इंतजार करना पड़ा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि मानसून की स्थिति कुछ सुस्त पड़ी है। अभी ये सिलीगुड़ी में सक्रिय है। ऐसी संभावना है कि बिहार में 12 जून के बाद मानसून की एंट्री हो सकती है। इसकी वजह से पूर्वी और उत्तरी बिहार के कुछ जगहों पर मौसम में बदलाव हो सकता है।

मध्यप्रदेश में दो-तीन दिन में दस्तक देगा मानसून

तीन महीने से भी ज्यादा समय से भीषण गर्मी से जूझ रहे मप्र के 20 जिलों में शनिवार शाम को राहत की बारिश हुई। भोपाल में दोपहर बाद ही घने बादल छाए रहे। शाम को बारिश शुरू हो गई। इंदौर में भी प्री-मानसून की धमाकेदार एंट्री हुई। मौसम विभाग के मुताबिक यदि मानसून की यह रफ्तार बरकरार रही तो तीन-चार दिन यानी 15 जून के आसपास यह मप्र में भी दस्तक दे सकता है।

Edited By: Sanjeev Tiwari