अहमदाबाद, पीटीआइ। गुजरात में भारी बारिश आफत बनकर आई है। वडोदरा में 35 साल का रिकार्ड टूटा, जिसकी वजह से शहर पानी में डूब गया है। सड़क, रेल व हवाई यातायात सब ठप है। सड़कें दरिया में तब्दील हो गई हैं। सूरत और वलसाड के कुछ हिस्सों में शुक्रवार और शनिवार को भारी बारिश हुई। रविवार के लिए मौसम विभाग ने कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

रविवार को आफत की बारिश
मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण गुजरात के वलसाड, नवसारी, डांग, तापी और सूरत में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। भारी बारिश के कारण कई नदियां पहले ही खतरे के निशान के पास बह रही हैं, अधिकारियों ने कहा है कि भारी बारिश के कारण एनडीआरएफ की चार टीमों को दक्षिण गुजरात क्षेत्र के विभिन्न जिलों में तैनात किया गया है।

छह घंटे में 298 मिमी बारिश
शनिवार को सुरत के ओलपाड में छह घंटे में 298 मिमी बारिश हुई, जबकि उमरपाड़ा में 204 मिमी बारिश हुई। वलसाड जिले के धरमपुर में इस दौरान 125 मिमी बारिश हुई। सूरत में मांगरोल में राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र (एसईओसी) के आंकड़ों के अनुसार, शनिवार सुबह 8 बजे से अबतक 269 मिमी बारिश हुई है।

भारी बारिश से  सड़कें जलमग्न 
भारी बारिश के कारण कई इलाकों और सड़कों पर पानी जमा हो गया है। किम और औरंगा नदियां खतरे के निशान के पास बह रही हैं। सूरत में कई सड़कें जलमग्न हो जाने से यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। जिला प्रशासन ने शनिवार को स्कूलों के लिए अवकाश घोषित कर दिया है।

पानी निकालने के लिए 78 पंप लगाए गए 
वडोदरा में बहने वाली विश्वामित्रि नदी का जल स्तर खतरे के निशान से नीचे आ गई है। जिला प्रशासन ने शहर में बाढ़ वाले क्षेत्रों से पानी को बाहर निकालने के लिए 78 जल पंपों की तैनाती की है। बारिश से होने वाली बिमारियों से बचने के लिए चिकित्सा कर्मियों की टीमें तैनात की गई हैं।

निचले इलाकों से लोगों को निकालने का काम 
सूरत के कलेक्टर धवल कुमार पटेल ने कहा कि सूरत से होकर बहने वाली किम नदी 11 मीटर के चेतावनी स्तर को पार कर गई है, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) के कर्मियों को निचले इलाकों के निवासियों को बाहर निकालने के लिए तैनात किया गया है।

11 हजार लोगों को बचाया गया
बाढ़ की वजह से वडोदरा और आसपास के क्षेत्रों से करीब 11 हजार लोगों को बचाया गया है। एनडीआरएफ की कुल 11 टीमों और एसडीआरएफ की छह टीमों ने निचले इलाकों के 9000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया दिया गया है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Manish Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप