नई दिल्ली, एएनआइ/एजेंसियां। मौसम विभाग की ताजा जानकारी की बात की जाए तो अभी भी लोगों को ठंड से राहत मिलने के कोई आसार नहीं है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने जानकारी देते हुए बताया कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिंदू कुश, पीर पंजाल और मध्य हिमालयी क्षेत्र में भारी बर्फबारी हो सकती है। यानी पहाड़ों पर, जिनमें हिमाचल और जम्मू-कश्मीर मुख्य हैं, यहां बर्फबारी होगी।

मौसम विभाग ने बताया कि बर्फबारी की वजह से उत्तरी मैदानी इलाकों में एक बार फिर ठंड बढ़ने की संभावना है। बता दें कि उत्तरी और उत्तर-मध्य क्षेत्र में जम्मू एवं कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार तथा मध्य प्रदेश राज्य आते हैं। यहां के प्रमुख शहरों में नई दिल्ली, कानपुर, जयपुर, लखनऊ, इंदौर, लुधियाना, चंडीगढ़ आदि आते हैं। आइए जानते हैं राज्यों का हाल...

जम्मू-कश्मीर में मौसम फिर बदला

उच्च पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी और निचले क्षेत्रों में बादल छाने के साथ ही एक बार फिर मौसम ने करवट बदली है। बादल छाये रहने के साथ ही तापमान में भी हल्की गिरावट आई है। उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी भी शुरू हो चुकी है। कश्मीर के गुलमर्ग, पहलगाम आदि क्षेत्रों में बर्फबारी हो रही है।

मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीनगर से मिली जानकारी अनुसार पश्चिमी विक्षोभ का दबाव बना हुआ है। यह दबाव 13 फरवरी तक सक्रिय रहेंगे। उसके साथ ही मौसम साफ होने लगेगा। उसके बाद फिर से तापमान में बढ़ोतरी होने लगेगी। 19 के बाद फिर से पश्चिमी विक्षोभ का दवाब बनता दिख रहा है।

झारखण्ड में नहीं रुक रहा शीतलहर का प्रकोप

झारखण्ड की राजधानी रांची में पिछले दिनों से चल रही शीतलहर लोगों की परेशानी का सबब बन गई है। मौसम विभाग ने अधिकतम तापमान 25.5 व न्यूनतम तापमान 7.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया। सामान्य तापमान की अपेक्षा अधिकतम तापमान में शून्य व न्यूनतम तापमान में 5.0 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई।

मौसम विभाग के निदेशक डॉ. एसडी कोटाल ने बताया कि फिलहाल झारखंड के ऊपर कोई सिनोप्टिक तंत्र कारगर नहीं है। संभवत: बुधवार से न्यूनतम तापमान में वृद्धि होने की संभावना है। मौसम पूर्वानुमान के तहत अगमी छह दिनों तक आसमान साफ रहेगा।

हिमाचल प्रदेश में बारिश और बर्फबारी की संभावना

मौसम विभाग ने 11 व 12 फरवरी को प्रदेश के उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में कुछ स्थानों पर बर्फबारी जबकि मैदानी क्षेत्रों में कुछ जगह बारिश की संभावना जताई थी। ऊंचाई वाले इलाकों में सुबह से बादल छाए हुए हैं। प्रदेश में सुबह व शाम का तापमान सामान्य से एक से दो डिग्री सेल्सियस नीचे है। तामपान में हल्की गिरावट आने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने से बर्फबारी व बारिश की संभावना है। प्रदेश में 13 से 16 फरवरी तक मौसम साफ रहने के आसार हैं।

उत्तर प्रदेश में दिन-रात की ठंड

राजधानी लखनऊ, मेरठ, सहारनपुर, बरेली सहित ज्यादातर शहरों में तापमान सामान्य चार से पांच डिग्री नीचे चले जाने की आशंका है। इस दौरान शीत लहर जैसे हालात बन सकते हैं। मौसम विभाग ने लखनऊ, कानपुर, आगरा, और प्रयागराज जिलों में अगले कुछ घंटे के दौरान मौसम के बिगड़ने का पूर्वानुमान लगाया है। पिछे कुछ दिन से उत्तर प्रदेश के शहरों में बादल छाए हुए हैं।

वहीं, बताया गया कि जब तक आकाश में बादल छाय रहेंगे, तब तक तापमान में उतार चढ़ाव रहेगा। उत्तर भारत की तरफ से आने वाली हवाओं के कारण पश्चिमी उत्तर प्रदेश में फिर मौसम में बदलाव होने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक एक नए पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत में 11 फरवरी को आएगा और यह 14 फरवरी तक रहेगा। इसके प्रभाव से उत्तराखंड सहित कई पहाड़ी राज्यों में 3-4 दिन बारिश और बर्फबारी का देखने को मिलेगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस