नई दिल्ली, जेएनएन। Weather Updates: इस साल मई के महीने में गर्मी से लोगों को काफी राहत मिली है। देश में मई में काफी कम तापमान दर्ज किया गया है। मौसम विभाग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 1901-2021 के बीच मई महीने का यह चौथा न्यूनतम औसत तापमान है। इतना ही नहीं साल 1977 यानी 44 सालों से भी कम का यह तापमान है। आइएमडी द्वारा जारी किए आंकड़े के मुताबिक, 1977 के बाद से इस साल मई महीने में 33 से 34 के करीब न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया है।

दिल्लीवासियों को गर्मी से मिली राहत

उधर, भयंकर गर्मी से जूझ रहे दिल्लीवासियों को वीकेंड आते-आते राहत मिल गई है। बीते दिन शाम को अचानक राजधानी का मौसम बदला। तेज आंधी के बाद हुई बारिश के चलते लोगों ने चैन की सांस ली। वहीं यूपी में भी मौसम सुहाना हो गया है। राजधानी लखनऊ समेत कई इलाकों में गुरुवार को हुई बारिश के बाद मौसम में बदलाव दर्ज हुआ।

महाराष्ट्र हुआ पानी-पानी

अगर मानसून की बात करें तो भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम मानसून अच्छी गति से आगे बढ़ रहा है और अगले दो दिनों में यह बंगाल और झारखंड के सभी इलाकों तक पहुंच जाएगा। हालांकि, पिछले दिनों महाराष्ट्र में मानसून की दस्तक के बाद काफी बारिश हुई, जिसके चलते लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। राजधानी मुंबई सहित कई इलाकों में भारी बारिश के चलते जलभराव भी हो गया।

अभी यहां तक पहुंच चुका है मानसून (Monsoon Tracker)

आइएमडी की मानें तो मानसून दक्षिण गुजरात के कुछ और इलाकों, महाराष्ट्र के बचे हुए इलाकों, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, दक्षिण मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों, छत्तीसगढ़ और दक्षिण गुजरात भी पहुंच गया है। मौसम की विभाग के मुताबिक, मानसून के गुजरात के कुछ और हिस्सों, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ के बाकी बचे इलाकों, पूरे बंगाल और झारखंड, बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों और उत्तरी बंगाल की खाड़ी में अगले 48 घंटे में पहुंचने के लिए अनुकूल परिस्थितियां बनी हुई हैं। विभाग ने बताया कि भारत के मैदानी इलाकों में अगले चार दिनों तक तेज हवाएं (25 से 35 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से) चलने की संभावना है।

उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती चक्रण बना हुआ है जिसके चलते उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और आसपास के इलाके में अगले 24 घंटे के दौरान कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। जिसके चलते अगले 24 घंटे में मानसून के मजबूत होने और ओडिशा के ऊपर पश्चिम उत्तर पश्चिम दिशा की ओर बढ़ने की संभावना है। 

आज ओडिशा के कई इलाकों में बारिश हो सकती है

विभाग के मुताबिक, आज और कल ओडिशा के कई इलाको में भारी बारिश होने की संभावना है। इसके अलावा 11-13 जून को छत्तीसगढ़ में, 13 जून को पूर्वी मध्य प्रदेश में और 12-13 जून को विदर्भ में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है। वहीं उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में 12 जून को मूसलाधार बारिश का पूर्वानुमान है।

यहां पर भी बरसेंगे मेघा

मौसम विभाग ने बताया कि तटीय इलाकों में निम्न दबाव के साथ पश्चिमी हवाओं के मजबूत होने से महाराष्ट्र के तटीय इलाकों में 10 से 15 जून तक और तटीय कर्नाटक में 12 से 15 जून तक मूसलाधार बारिश का दौर जारी रह सकता है। वहीं केरल में भी 12 से 15 जून तक भारी बारिश होने की संभावना बनी हुई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप