Move to Jagran APP

Assembly Bypoll: उपचुनाव में कहीं कम तो कहीं ज्यादा मतदान, बंगाल-बिहार में हुई हिंसा

देशभर के सात राज्यों के 13 विधानसभा क्षेत्रों में बुधवार को हुए उपचुनाव में कहीं मध्यम तो कहीं बहुत अधिक मतदान हुआ। चुनाव आयोग के अनुसार तमिलनाडु की विक्रवंडी विधानसभा सीट पर सबसे अधिक तो उत्तराखंड की बद्रीनाथ सीट पर सबसे कम वोट पड़े। लोकसभा चुनावों के बाद हुए इस पहले चुनाव में कई दिग्गजों और कुछ नए उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा। मतगणनना 13 जुलाई को होगी।

By Jagran News Edited By: Jeet Kumar Thu, 11 Jul 2024 12:27 AM (IST)
उपचुनाव में कहीं कम तो कहीं ज्यादा मतदान, बंगाल-बिहार में हुई हिंसा

जागरण टीम, नई दिल्ली। देशभर के सात राज्यों के 13 विधानसभा क्षेत्रों में बुधवार को हुए उपचुनाव में कहीं मध्यम तो कहीं बहुत अधिक मतदान हुआ। चुनाव आयोग के अनुसार, तमिलनाडु की विक्रवंडी विधानसभा सीट पर सबसे अधिक तो उत्तराखंड की बद्रीनाथ सीट पर सबसे कम वोट पड़े।

लोकसभा चुनावों के बाद हुए इस पहले चुनाव में कई दिग्गजों और कुछ नए उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होगा, जिनमें हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू की पत्नी कमलेश ठाकुर भी शामिल हैं। मतगणनना 13 जुलाई को होगी।

पोलिंग एजेंट के घर पर बमबाजी

उत्तराखंड, बिहार और बंगाल में हिंसा की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा। बंगाल की चार विधानसभा (विस) सीटों के लिए हुए मतदान के दौरान विभिन्न घटनाओं में 31 लोगों को गिरफ्तार किया है। बागदा, राणाघाट दक्षिण, मानिकतला व रायगंज सीटों पर शाम पांच बजे तक 62.71 प्रतिशत वोट पड़े। राणाघाट दक्षिण सीट के पायराडांगा इलाके में भाजपा की महिला पोलिंग एजेंट के घर पर बमबाजी की गई।

आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा है। इसी इलाके में गौतम विश्वास नामक भाजपा कार्यकर्ता की अज्ञात लोगों ने बुरी तरह पिटाई की। उन्हें गंभीर हालत में राणाघाट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। भाजपा के कैंप आफिस में भी कुछ लोगों ने तोड़फोड़ की। बागदा में भाजपा प्रत्याशी विनय कुमार विश्वास की गाड़ी में तोड़फोड़ की गई। बिहार में रूपौली सीट पर शाम छह बजे तक 52.75 प्रतिशत वोट पड़ चुके थे। 2020 के आम चुनाव में यहां 61.19 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था।

जालंधर में 55 प्रतिशत मतदान

पथराव में चुनाव में ड्यूटी में तैनात एसएचओ सहित एक सिपाही घायल हो गए। पंजाब में जालंधर पश्चिम विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में 55 प्रतिशत मतदान हुआ। कई मतदान केंद्रों पर मतदाताओं को पौधे उपहार में दिए गए। सत्तारूढ़ आप ने इस सीट से पूर्व मंत्री और पूर्व भाजपा विधायक भगत चुन्नी लाल के बेटे मोहिंदर भगत को मैदान में उतारा है।

भगत पिछले साल भाजपा छोड़कर आप में शामिल हुए थे। भाजपा ने शीतल अंगुराल को मैदान में उतारा है। इस बार लोगों का उत्साह फीका रहा। लोकसभा चुनाव के दौरान इस विस क्षेत्र में सबसे अधिक 64.4 प्रतिशत मतदान हुआ था। कम मतदान से बड़ा उलफेर होने की आशंका जताई जा रही है।

उत्तराखंड में चमोली की बदरीनाथ सीट पर 51.43 और हरिद्वार की मंगलौर सीट पर 68.24 प्रतिशत मतदान हुआ। बदरीनाथ से भाजपा ने कांग्रेस छोड़कर आए राजेंद्र भंडारी को प्रत्याशी बनाया है। बदरीनाथ सीट पर भाजपा और कांग्रेस में ही मुकाबला है, जबकि मंगलौर में भाजपा, कांग्रेस और बसपा के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। मंगलौर विधानसभा में मतदान के दौरान दो पक्षों में लाठी डंडे चले और पथराव हुआ।

हिमाचल प्रदेश की तीन विधानसभा सीटों देहरा, हमीरपुर व नालागढ़ में 70.72 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। नालागढ़ में सर्वाधिक 79.04, हमीरपुर में 67.7 और देहरा में 65.42 प्रतिशत लोगों ने मत का प्रयोग किया। देहरा सीट पर मुख्यमंत्री सुखविंदर सुक्खू की पत्नी कमलेश ठाकुर कांग्रेस की प्रत्याशी हैं। भाजपा ने त्यागपत्र देने वाले पूर्व निर्दलीय विधायकों को प्रत्याशी बनाया है। उपचुनाव में यदि भाजपा तीनों सीटें भी जीत जाती है तो भी सरकार पर फिलहाल संकट नहीं है।

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की अमरवाड़ा सीट पर मतदाताओं ने उत्साह दिखाया। शाम सात बजे तक 78.71 प्रतिशत से अधिक वोट पड़ चुके थे। यह आंकड़ा और बढ़ने का अनुमान है। इस सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ की प्रतिष्ठा लगी है। 2023 में इस सीट पर चुनाव जीतने वाले कांग्रेस के कमलेश शाह लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो गए। इसके बाद विधायक के पद से त्यागपत्र देने के बाद यहां उपचुनाव कराया गया। शाह को ही भाजपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है।