तिरुचिरापल्ली। केरल के वरिष्ठ और पूर्व माकपा नेता एम.पी.आर. उमानाथ अब नहीं रहे। लंबी बीमारी के बाद बुधवार को उनका निधन केरल के तिरुचिरापल्ली में हुआ। वे 93 साल के थे।

पत्नी के निधन के बाद से ही पूर्व माकपा नेता उमानाथ तिरुचिरापल्ली में अपनी दोनों बेटियों के साथ रह रहे थे। उनकी एक बेटी पेशे से वकील हैं जबकि दूसरी पार्टी कार्यकर्ता हैं। उमानाथ माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य भी रह चुके हैं। उन्होंने श्रीलंका में तमिलों के लिए अलग इलम बनाने को लेकर एलटीटीई का जमकर विरोध किया था। 1962 से लेकर 1965 तक वे पुडुकोंट्टी से सांसद रह चुके हैं। इसके अलावा 1977 से 80 के दौरान नागपंट्टीनम से विधायक भी रहे। उमानाथ देश के भारतीय व्यापार संघ (सीटू) और माकपा के पूर्व सचिव का पदभार भी संभाल चुके हैं।

पढ़ें: केरल में 40 साल पुराने वाम गठबंधन में फूट

पढ़ें: अन्नाद्रमुक के साथ आई मकपा भी