कोलकाता, (राज्य ब्यूरो)। पूर्व सेना प्रमुख व केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा है कि कश्मीर में हो रहे विरोध प्रदर्शन को रोकने के लिए पैलेट गन का इस्तेमाल समझदारी भरा कदम था। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उचित निर्णय लिया था क्योंकि पैलेट गन गैर-घातक हथियार है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने स्थिति से निपटने के लिए बहुत सोचकर यह कदम उठाया था। पैलेट गन से फायरिंग के दौरान जो लोग करीब आए, वे घायल हुए हैं।

सिंह शनिवार को कोलकाता में फेडरेशन ऑफ एसोसिएशन ऑफ स्माल इंडस्ट्रीज ऑफ इंडिया की वार्षिक आम बैठक में भाग लेने आए थे। बैठक के इतर उन्होंने ये बातें कहीं। शनिवार को दक्षिण कश्मीर के प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षा बलों द्वारा पैलेट गन से की गई फायरिंग में एक पत्थरबाज की मौत हो जाने की बात कही जा रही है।

पैलेट गन से घायल इंशा से AIIMS में मिलकर महबूबा मुफ्ती ने लगाया मरहम

अब तक पैलेट गन के छर्रे से घाटी में छह प्रदर्शनकारियों के मारे जाने की बात कही जा रही है जबकि कई लोगों की आंखों में चोट लगी है जिससे कुछ आंशिक रूप से तो कुछ पूर्ण रूप से अपनी दृष्टि खो चुके हैं। पैलेट गन के इस्तेमाल पर सवाल उठने के बाद अब वहां मिर्ची पाउडर के गोले के इस्तेमाल की बात हो रही है।

पैलेट गन पर रोक के बाद रोजाना कश्मीर घाटी पहुंच रहा एक हजार मिर्ची बम

Posted By: Manish Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप