उदयपुर, राज्‍य ब्‍यूरो। दस दिन पहले भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नुपूर शर्मा के समर्थन में 8 साल के बेटे के सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने पर दर्जी की उदयपुर में मंगलवार को दिनदहाड़े बर्बर तरीके से हत्या कर दी गई। इस घटना के बाद हिन्दू संगठनों में आक्रोश व्याप्त हो गया। विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं ने देहली गेट पर एकत्रित होकर प्रदर्शन किया और हत्यारों का पुतला फूंका। उन्होंने हत्यारों को फांसी की सजा की मांग की है। साथ ही मृतक के एक परिजन को सरकारी नौकरी, पचास लाख रुपए के मुआवजे की मांग की है। नामजद रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बावजूद कार्रवाई नहीं किए जाने पर थानाधिकारी के निलंबन की मांग की है। हत्या के बाद अपराधियों के वीडियो जारी किए जाने पर उदयपुर जिले में इंटरनेट सेवाएं अगले 24 घंटे के लिए बंद कर दी गईं।

आपको बता दें कि कन्हैयालाल तेली (40) की मालदास स्ट्रीट में भूतमहल के पास सुप्रीम टेलर्स नाम से दुकान है। जहां नाप देने का बहाने दो लोगों ने प्रवेश किया और कन्हैयालाल कुछ समझ पाता, उससे पहले उन्होंने उसके उपर हमला कर दिया। गर्दन पर कई वारों के चलते कन्हैयालाल की मौत मौके पर ही हो गई और उसके बाद दोनों लोग फरार हो गए। उन लोगों ने घटना का वीडियो भी बनाया।

सीएम की अपील, हत्यारों का वीडियो वायरल नहीं करें

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का एक और ट्वीट आया है, जिसमें उन्होंने लोगों से अपील की है कि वह हत्यारों का वीडियो वायरल नहीं करें। उनका कहना है कि हत्यारों का वीडियो वायरल किए जाने से माहौल खराब होगा। इससे अपराधी का समाज में घृणा फैलाने का उद्देश्य सफल होगा।

शांति और सांप्रदायिक सद्भाव की अपील

राजस्थान के राजभवन ने बयान जारी कर कहा कि उदयपुर की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। राज्यपाल कलराज मिश्र ने जनता से शांति और सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील की। जिला प्रशासन को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने किया ट्वीट

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने घटना को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि पुलिस इस मामले में कठोर से कठोर कार्रवाई करे। उन्होंने सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है।

Edited By: Arun Kumar Singh