जयपुर। पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के बाड़मेर जिले में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यहां के राजकीय अस्पताल में मंगलवार की सुबह दो और ग्रामीणों की जहरीली शराब से मौत हो गई। इन्हें मिलाकर अब तक आठ लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें दो बीएसएफ के जवान भी शामिल हैं। वहीं एक जवान गंभीर रूप से बीमार है। इसके अलावा छह लोग अस्पताल में भर्ती हैं। सोमवार रात तक छह लोगों की मौत हुई थी।

हादसे के बाद सक्रिय हुई पुलिस ने पूरे जिले में शराब तस्करों पर दबिश देकर 80 लोगों को हिरासत में लिया है, लेकिन अभी तक पुलिस मुख्य आरोपी तक नहीं पहुंच सकी है। चिकित्सकों का कहना है कि सभी मरीजों में एक समान शिकायत है। सीने में तेज दर्द के साथ दिखाई देना कम हो रहा है। सुबह गंभीर रूप से बीमार चार लोगों को जोधपुर लाया गया। इनमें तीन बीएसएफ के जवान हैं।

ऐसे हुआ हादसा

अब तक की पुलिस जांच में सामने आया है कि 31 मार्च को शराब के पुराने ठेके बंद होने एवं नए ठेकों के खुलने में हुए विलम्ब के कारण लोग शराब तस्करों की शरण में पहुंच गए। बढ़ी मांग पूरी करने के लिए शराब तस्करों ने बाड़मेर में ही स्वयं के स्तर पर शराब का निर्माण किया। शराब बनाने के लिए हानिकारक मिथाइल एल्कोहल का इस्तेमाल किया गया। इसी से बनी शराब पीने से लोगों की मौत हो रही है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस