नई दिल्ली। आरक्षण की मांग पर अड़े हार्दिक पटेल ने गुजरात सरकार को चेतावनी दे डाली है। उन्होंने नई मांग रखी है, जब तक मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल मंच पर आकर उनके समुदाय की मांगें नहीं मान लेती वे तब तक भूख हड़ताल करेंगे। उन्होंने कहा कि जब तक मुख्यमंत्री वहां आकर उनसे ज्ञापन नहीं ले लेतीं वे मंच पर डटे रहेंगे।

जानिए हार्दिक के बारे में जिसने हिला दी गुजरात की सियासत

'प्यार से हक दो, नहीं तो छीन लेंगे'

पटेल/पाटीदार समाज को ओबीसी में शामिल करने की मांग को लेकर क्रांति महारैली का आक्रामक रवैये के साथ आगाज करने वाले 22 साल के हार्दिक पटेल ने कहा, अगर एक पटेल (सरदार पटेल) देश को जोड़ सकता है, तो हम राज्य में 80 लाख हैं, पूरे देश में 27 करोड़ हैं, हम ये नहीं कर सकते? हार्दिक ने कहा, देश में सबसे ज्यादा सांसद हमारे हैं। प्यार से हक दो, नहीं तो छीन लेंगे। हम कोई राजनीतिक पार्टी नहीं हैं। हमसे ऊपर कोई सरकार नहीं है। हम जहां निकलते हैं वहीं क्रांति शुरू हो जाती है.. जहां हम निकलते हैं वहीं इतिहास शुरू हो जाता है।

जानिए हार्दिक पटेल के बारे में जिसने हिला दी गुजरात की सियासत

निशाने पर कांग्रेस-भाजपा

आरक्षण की मांग को लेकर हार्दिक पटेल ने कांग्रेस-बीजेपी किसी को नहीं बख्शा। उन्होंने कहा कि गुजरात में अभी तक छह हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं। आरक्षण के मुद्दे पर निवाला अटक गया है। अब किसानों ने आत्महत्या की तो सारा देश भुगतेगा। रावण की लंगा जला देंगे। राज्य और केंद्र में सरकार हमने बनाई है। हम किसी समाज और व्यक्ति के खिलाफ नहीं.. हम किसी का हक मारने नहीं निकले हैं। हम उसी चमड़ी से हैं जिससे वो हैं। आरक्षण मिलते ही आंदोलन खत्म होगा।

'हमें सबका अधिकार चाहिए'

हम तौर तरीके और राजनीति जानते हैं। मोदी साहब हमें सबका साथ सबका अधिकार चाहिए। सरदार पटेल पीएम होते तो हम बाहर नहीं होते। उन्होंने कहा, पटेल समाज को उसका हक और न्याय मिलना चाहिए। हमारी मांगें सही हैं। मैं किसी पार्टी से नहीं जुड़ा हूं, पटेल समाज को हक मिले, हमारी मांगे सही हैं। हमारी लड़ाई सिस्टम के खिलाफ है।

रैली का विशाल रूप देख घबाराया प्रशासन, मंच पर पहुंची पुलिस

हार्दिक पटेल की अगुवाई में देश भर से क्रांति महारैली में जुट रहे लोगों की भारी भीड़ देख प्रशासन की नींद उड़ गई है। इसका ही नतीजा है कि पुलिस रैली के दौरान हार्दिक के पास पुलिस मंच पर पहुंच गई। पुलिस ने हार्दिक से निवेदन किया है कि वे रैली समाप्त कर ज्ञापन कलेक्टर को दे दें। बता दें कि अभी तक रैली में करीब 9 लाख लोग पहुंच चुके हैं। हार्दिक ने 25 लाख लोगों के पहुंचने का दावा किया था।

चाक-चौबंद सुरक्षा

क्रांति महारैली के चलते अहमदाबाद शहर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है। लाखों में पाटीदारों के शामिल होने की संभावना है। आंदोलन समिति ने आज अहमदाबाद बंद का एलान भी किया है। अहमदाबाद के पुलिस आयुक्त शिवानंद झा ने बताया कि महारैली के चलते शहर में रथयात्रा से भी जोरदार सुरक्षा व्यवस्था की गई है। रैली के मार्ग व सभा स्थल पर सीसीटीवी तथा ड्रोन से नजर रखी जा रही है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर भी लगातार निगरानी है।

कोने-कोने से पहुंच रहें है पाटीदार

रैली में शामिल होने के लिए गुजरात के कोने-कोने से पाटीदार अहमदाबाद पहुंचने लगे हैं। अब तक करीब नौ लाख लोग आ चुके हैं जबकि रैली में 20 लाख से अधिक लोगों के शामिल होने का दावा किया जा रहा है।

हालात संभालने को मैदान में आरएसएस

पाटीदार आरक्षण के चलते बिगड़ रहे सामाजिक सदभाव को कायम रखने के लिए आरएसएस खुद मैदान में उतरा है। संघ के नेताओं ने मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल समेत भाजपा के अन्य नेताओं के साथ इस मुद्दे पर चर्चा की है।

पुलिस की तैयारियां

* सुरक्षा में तैनात रहेंगे 10 एसपी सहित 18 हजार जवान।

* रैली के रूट की सीसीटीवी से होगी मॉनिटरिंग, इंटरनेट सर्विलांस

* 11 वाटर कैनन, 35 टीयर गैस व्हीकल तैयार, बनाए गए छह कंट्रोल रूम

पाटीदार आरक्षण समिति की तैयारियां

* 30 हजार से अधिक स्वयंसेवकों की फौज

* तीन लाख लोगों के रहने, खाने की व्यवस्था

* टोल नाके पर टोल नहीं देकर सविनय कानून भंग करने का एलान

* रैली के लिए ड्रेस कोड, युवा ब्लू जींस व व्हाइट टी शर्ट में लेंगे भाग

Posted By: Rajesh Niranjan