Move to Jagran APP

COVID-19 Effect: दुनियाभर के पर्यटन उद्योग को लग सकती है एक लाख करोड़ डॉलर की चपत

संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी एक नई रिपोर्ट के अनुसार साल 2020 में ही कोरोना के चलते इस क्षेत्र को एक लाख करोड़ डॉलर (करीब 75 लाख करोड़ रुपये) का नुकसान पहुंच सकता है।

By Sanjay PokhriyalEdited By: Published: Thu, 27 Aug 2020 09:05 AM (IST)Updated: Thu, 27 Aug 2020 09:05 AM (IST)
COVID-19 Effect: दुनियाभर के पर्यटन उद्योग को लग सकती है एक लाख करोड़ डॉलर की चपत
COVID-19 Effect: दुनियाभर के पर्यटन उद्योग को लग सकती है एक लाख करोड़ डॉलर की चपत

नई दिल्ली, जेएनएन। COVID-19 Impact On Travel Industry: कोविड-19 महामारी का प्रतिकूल असर सभी क्षेत्रों में दिखाई दे रहा है, लेकिन पर्यटन क्षेत्र इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी एक नई रिपोर्ट के अनुसार पर्यटन क्षेत्र से जुड़े 12 करोड़ रोजगार पर खतरे की तलवार लटक चुकी है। सिर्फ साल 2020 में ही कोरोना के चलते इस क्षेत्र को एक लाख करोड़ डॉलर (करीब 75 लाख करोड़ रुपये) का नुकसान पहुंच सकता है।

loksabha election banner

एक लाख करोड़ डॉलर यानी.. वर्तमान में दुनिया में कुल 195 देश हैं। इनमें से आर्थिक शक्ति के रूप में मौजूद सिर्फ डेढ़ दर्जन देश ही ऐसे हैं जिनकी जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) एक लाख करोड़ डॉलर से ऊपर है। बाकी सभी देशों की जीडीपी एक लाख करोड़ डॉलर से नीचे है।

20 साल पीछे चला जाएगा पर्यटन उद्योग: इस साल मार्च में जब कोविड-19 महामारी दुनिया भर में तेजी से फैलने लगी तो सभी देशों ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध लगाया। अप्रैल और मई में अंतरराष्ट्रीय पर्यटन ठप सा हो गया। 2020 के पहले पांच महीनों में विदेशी पर्यटकों का आगमन पिछले साल के मुकाबले 60 फीसद कम रहा। अंतरराष्ट्रीय यात्राओं पर प्रतिबंध हटने के अनुमान के आधार पर विश्व पर्यटन संगठन ने बताया है कि इस साल अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों से दुनिया को 910 अरब डॉलर से लेकर 1.2 लाख करोड़ डॉलर की चपत लग सकती है। इससे दुनिया का पर्यटन उद्योग 20 साल पीछे जा सकता है।

रिकवरी में लग सकते हैं कई साल: पर्यटन स्थलों तक पर्यटकों को लाने के लिए सभी उपाय किए जा रहे हैं। हालांकि ऐसा लग रहा है कि इस उद्योग के पुनर्जन्म में समय लग सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि चीजें पहले की तरह वापस नहीं आ सकती हैं। अमेरिका में 11 सितंबर 2001 के आतंकी हमले के बाद एयरलाइन उद्योग को वापस पटरी पर लौटने में तीन साल का वक्त लगा था।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.