नई दिल्ली, जेएनएन। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल पर आधारित फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' (The Accidental Prime Minister) विरोध के बीच शुक्रवार को रिलीज हो गई। इस दौरान कई राज्यों में हिंसक प्रदर्शन हुआ। कड़ी सुरक्षा के बीच फिल्म जारी किए जाने के बाद भी दिल्ली, पश्चिम बंगाल, पंजाब व छत्तीसगढ़ में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तोड़फोड़ व हंगामा किया। पश्चिम बंगाल में तो एक सिनेमा हॉल की स्क्रीन तक फाड़ डाली गई।

इतना ही नहीं दिल्ली में शिरोमणी अकाली दल की यूथ इकाई ने मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) की छवि धूमिल करने का आरोप लगा फिल्म का विरोध जताया। शिरोमणी अकाली दल की यूथ इकाई दिल्ली के अध्यक्ष रमनदीप सिंह ने कहा कि यह फिल्म अल्पसंख्यकों पर हमला है। इससे अल्पसंख्यक समुदाय के देश के पहले सिख प्रधानमंत्री की छवि खराब करने की कोशिश की गई है।

कोलकाता में बंद किए गए सिनेमा हॉल

कोलकाता में सिनेमा हॉल में फिल्म के प्रदर्शन से पूर्व ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया। इसकी वजह से फिल्म प्रदर्शित नहीं हो सकी। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए आइनॉक्स समूह के हिंद सिनेमा हॉल को बंद कर दिया गया। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हॉल के बाहर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का पुतला भी फूंका। हालांकि, पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद कार्यकर्ताओं को शांत करा वहां से हटाया।

पंजाब में अनुपम खेर के पुतले जलाए

पंजाब में यूथ कांग्रेस ने एक मॉल का घेराव किया और अभिनेता अनुपम खेर (Anupam Kher) का पुतला फूंका। लुधियाना में कुछ कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इकट्ठा होकर कांग्रेस भवन से लेकर जेएमडी माल तक प्रदर्शन किया। कुछ अन्य जगहों पर भी विरोध प्रदर्शन हुआ।

छत्तीसगढ़ में दोपहर तक बवाल

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय पर एनएसयूआइ ने फिल्म का विरोध किया। पंडरी स्थित मॉल में पहला शो बंद करवा दिया। राज्य के कई स्थानों पर दोपहर तक विरोध चलता रहा। इस बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी सभी को है। इसके बाद एनएसयूआइ ने विरोध करने का निर्णय वापस ले लिया।

मध्य प्रदेश में भाजपाइयों का पुलिस से विवाद

फिल्म के प्रदर्शन को लेकर मध्य प्रदेश में भी विरोध जताया गया है। जबलपुर में एक मल्टीप्लेक्टस के बाहर युवक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने फिल्म का विरोध किया। उज्जैन में विरोध की आशंका के मद्देनजर पुलिस सुरक्षा बढ़ाई गई थी। इंदौर में भाजयुमो के कई कार्यकर्ता बैंड-बाजे के साथ फिल्म देखने मल्टीप्लेक्स पहुंचे। यहां प्रवेश को लेकर उनका पुलिस से विवाद हुआ। भीड़ पर काबू पाने के लिए पुलिस ने बल प्रयोग भी किया।

Posted By: Arti Yadav