बेंगलूर। आतंकी यासीन भटकल के पिता जर्रार सिद्दीबप्पा ने अपने बेटे की गिरफ्तारी पर गुरुवार को संतोष जताया। उन्होंने कहा कि इससे उसके फर्जी मुठभेड़ में मारे जाने का डर खत्म हो गया है। मीडिया को जारी बयान में कहा, हमें यह जानकर बेहद राहत मिली है कि अहमद सिद्दीबप्पा [यासीन भटकल] को गिरफ्तार कर लिया गया है। अब सच सामने आएगा।

पढ़े : भटकल की हिरासत मांगने की राज्यों में होड़

उत्तर कन्नड़ जिले के भटकल निवासी जर्रार ने कहा कि उनके परिवार का न्यायिक प्रक्रिया में पूरा विश्वास है। अगर वह दोषी पाया जाता है तो उसे सजा मिलनी चाहिए। मगर कानूनन जब तक कोई दोषी साबित न हो जाए उसे बेगुनाह मानना चाहिए। उन्होंने दावा किया कि उनके बेटे के बारे में मीडिया में तमाम तरह की झूठी खबरें फैलाई गई। उन्होंने बताया कि उनका बेटा भटकल में रहकर पहली से लेकर दसवीं कक्षा तक पढ़ा। दुबई से लापता होने के बाद उनकी जानकारी में वह कभी पुणे नहीं आया। यासीन नवंबर, 2005 में दुबई गया था। उसके दो साल बाद वह दुबई से ही लापता हो गया था। दुबई खुफिया एजेंसी और परिवार की तमाम कोशिशों के बावजूद उसका कुछ पता नहीं लगा। बयान पर यासीन के चाचा याकूब सिद्दीबप्पा के भी हस्ताक्षर हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप