श्रीनगर(जेएनएन)। कश्मीर में 25वें दिन बवाल जारी रहा। बीती रात पुलवामा में गोली लगने से एक प्रदर्शनकारी की मौत के बाद हालात फिर तनावपूर्ण हो गए। घाटी के कुछ हिस्सों में काफी तनाव है। इससे पहले मंगलवार को महिलाओं ने भी घाटी के कई इलाकों में पाकिस्तान का झंडा लेकर विरोध किया था। भारत विरोधी नारे भी लगाए गए। आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद कश्मीर में फैली हिंसा से अब मौत का आंकड़ा 50 पहुंच चुका है।


पुलवामा के लेथपोरा इलाके में हिंसक भीड़ ने एक सीनियर अफसर की गाड़ी जलाने कोशिश की। बताया जा रहा है कि अफसर मंगलवार रात 8.30 बजे श्रीनगर-जम्मू हाईवे से अपने सिक्युरिटी गार्ड के साथ गुजर रहा था।तभी भीड़ ने घेर लिया और गाड़ी को आग लगाने लगे। हालात काबू करने के लिए अफसर के सिक्युरिटी गार्ड ने भीड़ पर फायर कर दिया।जिसमें एक प्रोटेस्टर की मौत हो गई, जबकि एक दूसरा घायल बताया जा रहा है।

कश्मीर हिंसा के मुद्दे पर पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे का सरकार पर निशाना

थाने पर भीड़ का हमला

कुपवाड़ा के त्रेहगाम में भीड़ ने पुलिस थाने पर जमकर पथराव कर दिया। पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। इस घटना में तीन लोग घायल हो गए, जिसमें एक की स्थिति गंभीर बताई जा रही है।

मंत्री के घर पर पेट्रोल बम फेंका, अलगाववादियों की नई तरकीब

सेना से भिड़ने की बजाय अब अलगाववादियों ने नेताओं के घरों को निशाना बनाने की तरकीब अपनाई है जिसका हालिया मामला मंगलवार को दिखा। कश्मीर में प्रोटेस्टर्स ने जम्मू और कश्मीर के शिक्षा मंत्री नईम अख्तर के घर पर दो पेट्रोल बम फेंके। हालांकि उस वक्त घर में कोई मौजूद नहीं था। इसके अलावा देर रात ग्रामीण विकास मंत्री अब्दुल हक खान के काफिले पर कुपवाडा के टंगधार में हमला किया गया।उनके काफिले पर पथराव किया गया। जिसमें मंत्री सुरक्षित रहे। वहीं, इससे पहले पीडीपी के एक विधायक तथा एक अन्य नेता पर हमला किया गया था।

बुरहान की वकालत करने वालों से सख्ती से निपटा जाए

Posted By: Lalit Rai

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस