नई दिल्ली, पीटीआइ। देश में कोरोना की दूसरी लहर देखी जा रही है। कोरोना के इस लहर में संक्रमितों की संख्या भी ज्यादा है और लोगों की मौत भी ज्यादा हो रही है। वहीं, अब कोरोना की एक और लहर को लेकर कई राज्यों को अभी से सचेत कर दिया गया है। आइआइटी कानपुर और हैदराबाद के विज्ञानियों का 'ससेप्टिबल, अनडिटेक्टेड, टेस्टेड (पाजिटिव) एंड रिमूव्ड एप्रोच' यानी (सूत्र) मॉडल बताता है कि तमिलनाडु, असम और पंजाब जैसे राज्यों में अगले दो हफ्तों में कोरोना की दूसरी लहर चरम पर पहुंच सकती है। हालांकि, राहत की बात यह है कि दिल्ली और महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों ने महामारी के अपने चरम को अच्छी तरह से पार कर लिया है। ऐसी जानकारी सूत्र माडल के द्वारा दी गई है।

इस मॉडल में यह भी कहा गया है देश में कोरोना महामारी 4 मई को अपने चरम पर पहुंच गई थी। इसके बाद से कोरोना के दैनिक नए मामलों में गिरावट देखी गई। हालांकि, 7 मई को देश में 4,14,188 मामले दर्ज किए गए, जो किसी भी दिन में सबसे ज्यादा थे।

तमिलनाडु में 29 से 31 मई तक यह महामारी होगी चरम पर

इस मॉडल पर काम कर रहे तीन वैज्ञानिकों में से एक आईआईटी-हैदराबाद के प्रोफेसर एम विद्यासागर ने कहा कि तमिलनाडु, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, असम जैसे बड़े राज्यों ने अभी तक कोरोना महामारी का अपना चरम नहीं देखा है। मॉडल का सुझाव है कि तमिलनाडु में 29 से 31 मई तक यह महामारी अपने चरम देखी जा सकती है जबकि पुडुचेरी में 19 से 20 मई को चरम पर देखी जा सकती है।

उन्होंने बताया कि पूर्व और पूर्वोत्तर भारत के राज्यों को अभी अपने चरम पर पहुंचना बाकी है। मॉडल का सुझाव है कि असम में 20 से 21 मई तक कोरोना महामारी चरम देखी जा सकती है।

बता दें कि असम में में सोमवार को 6,394 नए मामले सामने आए, जो एक दिन में सबसे ज्यादा है। मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि राज्य में कोरोना से 19 लोगों की मौत हुई, जो कि एक दिन में सबसे अधिक है।

त्रिपुरा में 26 से 27 मई को यह महामारी अपने चरम पर देखी जा सकती है

सूत्र मॉडल ने अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर में संक्रमण में गिरावट की भविष्यवाणी की है और इन राज्यों में मामलों में गिरावट दर्ज की गई, लेकिन वे मामूली रूप से बढ़ने लगे हैं। मॉडल का सुझाव है कि मेघालय में 30 से 31 मई को कोरोना महामारी का चरम देखा जा सकता है, जबकि त्रिपुरा में 26 से 27 मई को यह महामारी अपने चरम पर होगी।

हिमाचल प्रदेश और पंजाब में कोरोना के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है। हिमाचल प्रदेश में 24 मई तक और पंजाब में 22 मई तक मामले चरम पर पहुंच सकते हैं। सूत्र मॉडल के अनुसार महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान, केरल, सिक्किम, उत्तराखंड, गुजरात, हरियाणा के अलावा दिल्ली और गोवा जैसे राज्य पहले ही अपना चरम देख चुके हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप