बेंगलुरु, एएनआइ। कोरोना संकट के कारण एहतियात बरतते हुए कर्नाटक में सेकेंटरी स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट परीक्षा से पहले छात्रों की स्क्रीनिंग की गई। यहां हुबली में एग्जाम सेंटर्स पर परीक्ष में शामिल होने से पहले छात्रों की स्क्रीनिंग कर तापमान मापा गया। राज्य में आज कोरोना के प्रकोप के बीच 10वीं कक्षा की सोशल साइंस की परीक्षा आयोजित की गई है।

25 जून से परीक्षा शुरू

कर्नाटक सकेंड्री एजुकेशन एग्जामिनेशन बोर्ड (केइसईईबी) की सकेंड्री स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट (SSLC) की परीक्षाएं 25 जून से शुरु कर दी गई थीं। कोरोना के प्रकोप को देखते हुए परीक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं। छात्रों को दो घंटे पहले आने के निर्देश दिये गये थे। वहीं विभिन्न परीक्षा केंद्रों छात्रों की चेकिंग की जा रही हैं, जिसके चलते लंबी लाइनें देखी गयीं। इतना ही नहीं राज्य के शिक्षा मंत्री ने कुछ केंद्रों पर जाकर स्थिति का जायजा भी लिया था। बोर्ड द्वारा जारी टाइमटेबल के अनुसार परीक्षाएं 3 जुलाई तक चलेंगी। परीक्षाओं के आयोजन से एक दिन पहले राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बी. श्रीरामुलु ने कहा था कि परीक्षाओं के दौरान सामाजिक दूरी का पालन करना और मास्क लगाना अनिवार्य होगा। साथ ही, कंटेनमेंट जोन से आने वाले परीक्षार्थियों को सावधानी के साथ परीक्षा में सम्मिलित होने दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के साथ ही मरीजों के महामारी से उबरने की दर भी लगातार सुधर रही है। अब तक 5.50 लाख संक्रमितों में से 3.34 लाख तक स्वस्थ भी हो चुके हैं जबकि 220114 मरीजों का इलाज अभी भी चल रहा है। इस तरह मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 58.67 फीसद हो गई है। हालांकि, महाराष्ट्र समेत कुछ राज्यों में संक्रमण का प्रसार जारी है। इसको देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ा दिया है। आइसीएमआर के मुताबिक देश में अब तक 86,08,654 नमूनों की जांच हुई है।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस