नईदुनिया, रायपुर। छत्तीगसढ़ के एक मंत्री की कथित अश्लील सीडी के मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने बेल लेने से इन्कार कर दिया, जिसके बाद रायपुर स्थित सीबीआइ की विशेष कोर्ट ने उन्हें 15 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया है। कोर्ट ने आठ अक्टूबर को उन्हें पेश करने का निर्देश दिया है। सीबीआइ ने सोमवार को विशेष कोर्ट में बघेल समेत छह अभियुक्तों विनोद वर्मा, कैलाश मुरारका, विजय भाटिया, विजय पड्या और मृतक रिंकू खनूजा के खिलाफ चालान पेश किया। इसमें भाटिया को एक लाख के मुचलके पर जमानत दे दी गई। बघेल ने कोर्ट में कहा कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है, इसलिए अपनी तरफ से न तो कोई वकील करेंगे, न ही जमानत के लिए आवेदन देंगे।
आधे-अधूरे चालान पर कोर्ट ने सीबीआइ को लगाई फटकार
सीडी कांड में आधा-अधूरा चालान पेश करने पर कोर्ट ने सीबीआइ को फटकार लगाई। सुबह 11 बजे जब सीबीआइ ने कोर्ट में चालान पेश किया तो कोर्ट ने फटकार के साथ लौटा दिया। कोर्ट ने निर्देश दिया कि चालान के पूरे दस्तावेज पेश किए जाएं। सीबीआइ गवाहों की फोटो भी पेश नहीं कर पाई थी। इसके बाद कोर्ट ने तीन बजे फिर सुनवाई की, जो करीब पांच बजे तक चली।
उग्र हुए कांग्रेसी
कोर्ट परिसर में बघेल के समर्थन में हजारों कांग्रेसियों का जमावड़ा लगा रहा। कोर्ट से जब बघेल को जेल ले जाया जा रहा था, तब कांग्रेसी पुलिस की गाड़ी पर चढ़ गए और जमकर नारेबाजी की। इससे पहले सुबह बघेल कांग्रेस नेताओं के साथ डॉ. भीमराव आंबेडकर प्रतिमा से कोर्ट तक पदयात्रा करके पहुंचे। इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता उनके साथ थे।
कांग्रेसी आज भरेंगे जेल
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रविंद्र चौबे ने बताया कि मंगलवार को कांग्रेस का जेल भरो आंदोलन होगा। उन्होंने कहा कि बघेल ने सीडी लहराई थी। इस जुर्म में जेल भेजा गया। इससे पहले भी कांग्रेस ने अंतागढ़ टेप कांड और प्रियदर्शनी बैंक घोटाले की नार्को सीडी को भी लहराया था, उसमें क्यों जेल नहीं भेजा गया।
इनको बनाया गवाह
सीबीआइ ने 100 लोगों को गवाह बनाया है। इसमें मंत्री राजेश मूणत, अरण बिसेन और रविकांत मित्तल का नाम प्रमुख है।
भाजपा नेता मुरारका नहीं पहुंचे कोर्ट
मामले में सीबीआइ ने छह लोगों के खिलाफ चालान पेश किया, जिसमें से तीन ही पहुंचे। इस मामले के एक आरोपी रिंकू खनूजा की मौत हो चुकी है, जबकि भाजपा नेता कैलाश मुरारका और विजय पंड्या कोर्ट नहीं पहुंचे। जो तीन पहुंचे उनमें एक विनोद वर्मा पहले से जमानत पर हैं। भाटिया ने सोमवार को जमानत ली।


सरकार के दबाव में सीबीआइ ने आननफानन में बिना तैयारी के चालान पेश किया है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री को काले झंडे दिखाए, इसका बदला लेने के लिए सरकार ने चालान पेश करवाया है। हम सरकार के आगे झुकने वाले नहीं है। जेल में सत्याग्रह करूंगा।
भूपेश बघेल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, छत्तीसगढ़

कांग्रेस एक तरफ जांच सीबीआइ को सौंपने की बात कहती है, दूसरी तरफ सीबीआइ पर सवाल भी उठाती है। हाल ही में लाठीचार्ज के मुद्दे पर भी सीबीआइ जांच की मांग की और फिर सीबीआइ के राजनीतिक दुरुपयोग की भी बात कहते हैं। ये समझ से परे हैं।
डॉ रमन सिंह, मुख्यमंत्री, छत्तीगसढ़

भूपेश बघेल राजनीतिक लाभ लेना चाहते हैं। बघेल जेल जाकर खुद को शहीद बताने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि यह स्पष्ट है कि इस मामले में मुझे फंसाने, मेरे खिलाफ साजिश रचने, मुझे बदनाम करने का प्रयास किया गया है।
राजेश मूणत, पीडब्ल्यूडी मंत्री, छत्तीसगढ़

Posted By: Ravindra Pratap Sing